Jabalpur News -केंद्रीय सुरक्षा संस्थानों का किसानों को समर्थन, फैक्ट्री के बाहर देंगे धरना कर्मचारी

देश भर की करीब 41 केंद्रीय सुरक्षा संस्थान के कर्मचारी भी केंद्र सरकार के कृषि बिल विरोध में हैं। लिहाजा हजारों कर्मचारियों ने भारत बंद में किसानों का समर्थन भी किया है। जबलपुर की चार केंद्रीय सुरक्षा संस्थानों में भी मंगलवार को जब किसान भारत बंद करेंगे तो इस पर कर्मचारी अपनी मुहर लगाएंगे।

JABALPUR

जबलपुर, संदीप कुमार। पूरे प्रदेश में कृषि बिल (Agricultural Bill) विरोध का लगातार विरोध हो रहा है यही वजह है कि देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) में हजारों के साथ बीते कई दिनों से जमावड़ा लगा कर बैठे हुए हैं। इस बीच केंद्र सरकार ने किसानों(Farmers) को मनाने के लिए भरसक प्रयास किया पर वह पूरी तरह से असफल रहा ऐसे में देश भर के किसानों ने मंगलवार (Tuesday) को भारत बंद (Bharat Band) का आह्वान किया है जिसमें कि कांग्रेस (Congress) ने अपना समर्थन भी किया है।वही जबलपुर की चार केंद्रीय सुरक्षा संस्थानों ने भी भारत बंद का समर्थन किया है।

कांग्रेस किसानों के कदम से कदम मिलाकर देगी साथ
जिस समय किसान कृषि बिल लागू हो रहा था उस समय कांग्रेस ने इसका पुरजोर तरीके से विरोध किया था पर केंद्र सरकार ने कांग्रेस के इस विरोध को हल्के से लिया,लिहाजा इस बिल को आनन-फानन में केंद्र सरकार ने पास भी कर दिया पर अब जबकि किसान इस बिल को लेकर लगातार विरोध कर रहे हैं तो ऐसे में निश्चित रूप से जायज है कि यह बिल किसानों के लिए नुकसानदायक साबित हो रहा है यही कारण है कि पूरे देश भर के किसान इन दिनों राजधानी में जुटे हुए हैं किसानों का मानना है कि हर हालत में कृषि बिल कानून को खत्म किया जाए।

मध्य प्रदेश की संस्कारधानी मैं भी देखेगा कृषि बिल कानून का विरोध
जबलपुर (Jabalpur) में भी कृषि बिल कानून के विरोध को लेकर कांग्रेस ने पूरी तरह से तैयारी कर ली है,मंगलवार को किसानों के भारत व्यापी बंद का समर्थन करने के लिए कांग्रेस पूरी तरह से तैयार है।पूर्व सामाजिक न्याय मंत्री लखन घनघोरिया (Lakhan Ghanghoria) की अगुवाई में जबलपुर में कृषि विरुद्ध कानून को लेकर कांग्रेस अपना पूरा समर्थन देगी पूर्व मंत्री लखन घनघोरिया का कहना है कि किसानों के लिए बनाया गया यह बिल पूरी तरह से गलत है, लिहाजा इसके लिए कांग्रेस पूरी तरह से किसानों के साथ में है। पूर्व मंत्री लखन घनघोरिया कहना है कि जब इस बिल को पास किया जा रहा था उस दौरान कांग्रेस ने इसका भरसक रुप से विरोध किया था पर केंद्र सरकार ने इस विरोध को हल्के से लिया और बिल पास किया पर अब जबकि पूरे देश का किसान इस बिल के विरोध में हैं तो निश्चित रूप से कांग्रेस भी इसके साथ में हैं।

केंद्रीय सुरक्षा संस्थान के कर्मचारी भी है कृषि बिल के विरोध में
देश भर की करीब 41 केंद्रीय सुरक्षा संस्थान के कर्मचारी भी केंद्र सरकार के कृषि बिल विरोध में हैं। लिहाजा हजारों कर्मचारियों ने भारत बंद में किसानों का समर्थन भी किया है। जबलपुर की चार केंद्रीय सुरक्षा संस्थानों में भी मंगलवार को जब किसान भारत बंद करेंगे तो इस पर कर्मचारी अपनी मुहर लगाएंगे। मंगलवार की दोपहर को जबलपुर की चारों सुरक्षा संस्थान के कर्मचारी भोजन काल के समय धरना देकर अपना विरोध प्रदर्शन करेंगे और किसानों के समर्थन में उतरेंगे।