अब सरहद पर देश की शान बढ़ाएगी स्वदेशी ‘धनुष’ तोप

-Indigenous-'Dhanush'-can-increase-the-country's-pride-on-the-border

जबलपुर| देश की सबसे शक्तिशाली 6 धनुष तोपो को आज रक्षा मंत्रालय ने सेना को सौप दिया है|  इस अवसर पर जबलपुर की गन कैरिज फैक्टरी में एक भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें रक्षा सचिव डॉ अजय कुमार,ऑर्डन्स बोर्ड के चेयरमैन सौरभ कुमार,बोर्ड के सदस्य हरि मोहन सहित सभी फैक्टरी के जीएम भी मौजूद थे।

रक्षा मंत्रालय के सचिव डॉ अजय कुमार ने सेना के अधिकारी पीके श्रीवास्तव को गन सौपा है। इस दौरान रक्षा सचिव ने कहा कि आज का दिन रक्षा मंत्रालय के लिए बहुत खुशी का दिन है जब हम अपनी स्वदेशी धनुष तोप को सेना के हवाले कर रहे है। विश्व स्तरीय गन की तारीफ करते हुए सचिव ने कहा कि 6 धनुष को पूरी जांच के बाद आर्डलरी डिवीजन को सौप दी गई है।

पूर्णता भारत मे बनी तोप के विषय मे रक्षा सचिव का कहना है कि जिस तरह से गन कैरिज फैक्टरी ने आज के दिन को ऐतहासिक बनाते हुए इस तरह की परियोजना की शुरुआत की गई है जो कि आने वाले समय के मील का पत्थर साबित होगी।वही धनुष तोप की विशेषता को लेकर ऑर्डन्स बोर्ड के चेयरमैन सौरभ कुमार ने बताया कि इसकी मारक क्षमता 38 किलोमीटर तक है ये गन बहुत ही प्रभावशाली है एक घंटे में इससे 42 से ज्यादा राउंड चलाये गए जो कि एक रिकॉर्ड था ।यह तोप अपनी लोकेशन को खुद ही टारगेट करती है और कमांड मिलने पर खुद ही फायर करती है।

धनुष का वजन 13 टन से भी कम है यही वजह है कि ऊंची से ऊंची जगह भी यह आसानी से जाकर मार कर सकती है।आर्मी के सामने भी धनुष तोप खरी उतरी है।जीसीएफ फैक्टरी को 114 धनुष तोप बनाने का टारगेट मिला है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here