Jabalpur News : खेत में बनी झोपड़ी में लगी आग, आदिवासी दम्पति जिंदा जले

पुलिस इस बात की जाँच कर रही है कि आग लगना एक दुर्घटना है या किसी ने जानबूझकर लगाई है।

जबलपुर, संदीप कुमार। जबलपुर के चोराई गांव में बीती रात आदिवासी दंपत्ति की आग में जिंदा जलकर मौत हो गई घटना के बाद से पूरे गांव में मातम पसरा है तो वहीं सूचना के बाद बरगी थाना पुलिस मौके पर पहुंची और इस पूरे घटनाक्रम की जांच में जुट गई है।

घटना का खुलासा आज सुबह तब हुआ जब खेत में बंधे जानवर की रस्सी कटी हुई मिली और वह गांव के अंदर घूम रहे थे। जानवरों को गांव में घूमता देख दम्पति के परिजन खेत पर पहुंचे जहां उन्हें झोपड़ी जली हुई मिली और उसी में दोनों के जले हुए शव मिले।  परिजनों ने पुलिस को घटना की सूचना दी।

ये भी पढ़ें – कर्मचारियों को जल्द मिलेगी गुड न्यूज! 18 महीने के बकाया DA Arrears पर आया ताजा अपडेट

बरगी पुलिस ने बताया कि सुबह सूचना मिली कि ग्राम चौरई में खेत में बनी झोपड़ी में आग लगने के कारण 60 वर्षीय सुमेर सिंह कुलस्ते एवं उनकी पत्नी 55 वर्षीय सिया बाई की आग से जलकर मौत हो गई है, दोनों के शव जली हुई हालत में झोपड़ी में पड़े हैं। सूचना मिलते ही बरगी टीआई रितेश पांडे पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे, मौके पर घास फूस से बनी झोपड़ी जली हुई थी और उसी में दम्पति के जले हुए शव पड़े थे।

ये भी पढ़ें – नरोत्तम मिश्रा का तंज, कांग्रेस ने जैसे मनमोहन सिंह को रिमोट से चलाया यही स्थिति चन्नी की भी

बरगी टीआई रितेश पांडे ने बताया कि जिस झोपड़ी में सुमेर एवं सिया बाई सो रहे थे, वह पूरी घास फूस से बनी हुई थी, वहीं पर एक चूल्हा भी जल रहा था, झोपड़ी में बिजली की लाइन से तार खींचकर लाइट भी लगी हुई है, आग शार्ट सर्किट से लगी है, चूल्हे से लगी है या फिर किसी ने जानबूझकर झोपड़ी में आग लगाई है इन बिंदु पर पुलिस जांच कर रही है।  सवाल ये उठता है कि आखिर खेत में बंधे जानवरों की रस्सी किसने काटी है?

ये भी पढ़ें – Damoh News: पीएम मोदी की लम्बी उम्र के लिए केंद्रीय मंत्री का दमोह में महामृत्युंजय जाप