Jabalpur News : MPPSC की तैयारी कर रहे छात्र की हत्या, बाइक ओवरटेक करने को लेकर हुआ था विवाद, मुख्य आरोपी गिरफ्तार, अन्य 9 अभी भी फरार

जबलपुर एसपी आदित्य प्रताप सिंह का कहना है कि कार्तिक चौधरी के साथियों की लगातार तलाश की जा रही है जल्दी उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

Atul Saxena
Published on -

Jabalpur News : MPPSC की तैयारी कर रहे छात्र शुभम की हत्या करने वाले मुख्य आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है जबकि उसके 9 अन्य साथी अभी भी फरार हैं, पुलिस फरार आरोपियों की तलाश कर रही है, उधर इस घटना में घायल शुभम के दोस्त मानस घायल हुआ था जिसका इलाज अभी जारी है।

बाइक ओवरटेक करने को लेकर MPPSC छात्र की हत्या 

जानकारी के मुताबिक बाइक ओवरटेक करने को लेकर शुभम का कार्तिक चौधरी नामक युवक से झगड़ा हुआ था जिसपर कार्तिक ने अपने साथियों के मिलकर शुभम की चाकू मारकर हत्या कर दी और फरार हो गया। लगातार पुलिस उसके ठिकानों में दबिश दे रही थी। इस बीच मुखबिर से सूचना मिली कि पाठबाबा की पहाड़ी पर कार्तिक छिप कर बैठा हुआ है जबकि उसके अन्य साथी जबलपुर शहर से बाहर भाग चुके हैं।

मुख्य आरोपी कार्तिक गिरफ्तार, उसके फरार 9 साथियों को तलाश रही पुलिस 

देर रात करीब 2 बजे घमापुर थाना पुलिस ने क्राइम ब्रांच के साथ मिलकर पहाड़ी को घेरा और कार्तिक चौधरी को जैसे ही गिरफ्तार करने की कोशिश की गई तभी वह एक्टिवा से भागने लगा इसी बीच उसकी गाड़ी स्लिप हो गई जिसके चलते उसका पैर टूट गया। पुलिस ने कार्तिक चौधरी को गिरफ्तार करने के बाद जिला अस्पताल लेकर आए जहां उसका इलाज करवाने के बाद उसे पुलिस कस्टडी में रखा गया है। जबलपुर एसपी आदित्य प्रताप सिंह का कहना है कि कार्तिक चौधरी के साथियों की लगातार तलाश की जा रही है जल्दी उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

हमले में घायल मृतक शुभम के दोस्त का इलाज जारी 

बता दें कि शनिवार की रात 9 बजे मृतक शुभम अपने दोस्त मानस श्रीवास्तव के साथ बुक्स लेने के लिए रांझी गया हुआ था वापस जब रात 2 बजे लौट रहे थे इस दौरान शुभम ने अपनी बाइक से आरोपियों की बाइक को ओवरटेक कर दिया था इसी से नाराज होकर आरोपियों ने शुभम को घेरा और फिर ताबड़तोड़ चाकू मार कर उसकी हत्या कर दी थी। इस वारदात में शुभम के दोस्त मानस श्रीवास्तव को भी गंभीर चोट  है जिसका मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इलाज जारी है।

जबलपुर से संदीप कुमार की रिपोर्ट 


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News