रेत उत्खनन को लेकर फायरिंग मामले में नया मोड़, दूसरा पक्ष पहुंचा एसपी ऑफिस,

जबलपुर| बरगी विधानसभा के नर्मदा घाटों से रेत उत्खनन धड़ल्ले से हो रहा है।यह देखने को मिला शहपुरा से गोटेगांव रोड स्थित झांसी घाट में जहां पर नर्मदा नदी से रेत उत्खनन को लेकर दो पक्षों के बीच झगड़ा हो गया था ।इस विवाद में दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर हमला कर फायरिंग भी कर दी थी यहां तक कि रेत निकालने के लिए लाई गई जेसीबी में तोडफ़ोड़ भी की गई। इस मामले में दोनों पक्षों के खिलाफ प्रकरण पुलिस ने दर्ज किया।अब इस प्रकरण में नया मोड आ गया। एक पक्ष ने पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचकर मामले में पुलिस अधीक्षक के नाम ज्ञापन दिया। पुलिस अधीक्षक ऑफिस पहुंचे एक पक्षों का कहना था कि शहपुरा से गोटेगांव रोड पर स्थित नर्मदा नदी के झांसी घाट पर रमखिरिया ग्राम पंचायत की सरपंच सुधा समरजीत सिंह ने नर्मदा पूजन के लिए घाट का निर्माण कराया है जहां पर श्रद्धालुओं द्वारा नर्मदा पूजन किया जाता है। घाट बनाए जाने से यहां पर अवैध रेत का खनन करने वालों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा हैै। जिसके चलते ग्राम मेहगवां के बबलू उर्फ मनेाज सिंह व अतुलसिंह परिहार निवासी ठूठा द्वारा जेसीबी से घाट को तोड़ दिया ताकि अवैध रुप से रेत निकाली जा सके।जिसका संदीप सिंह ने विरोध किया तो गाली गलौज कर रिवाल्वर व कट्टा निकालकर फायरिंग कर दी। 

वही दूसरे पक्ष का कहना है कि रमेश सिंग सेंगर पिछले विगत 15 वर्षों से इसी घाट से रेत का अवैध काम कर रहे थे जब आज इनका काम बंद हो तो उन्होंने घाट में आकर फायरिंग कर दी और घटनास्थल से फरार हो गए।

एसपी ऑफिस आये लोगो कहना है की बब्लू उर्फ मनोज सिंह राजपूत ने प्रकरण मेें झूठी शिकायत की है कि समरजीत सिंह पक्ष द्वारा भी गोली चलाई गई और उक्त गोली बबलू के साथ अतुल को लगी है जबकि उक्त गोली बबलू ने योजनाबद्ध तरीके से खुद अपने साथी को मारी है ताकि 307 का झूठा प्रकरण दर्ज कराया जा सके। शिकायत करने पहुंचे लोगों ने प्रकरण में उचित जांच की मांग की है। वहीं एएसपी शिवेद्र सिंह बघेल का कहना है कि मामले में निष्पक्ष जांच की जायेगी ओर अगर जांच में कोई बेगुनाह पाया जाता है तो उसका नाम एफआईआर से काट दिया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here