अब सायबर फोरेंसिक लैब करेगी अपराधियों के हौसलें पस्त

 जबलपुर, डेस्क रिपोर्ट। भले ही पुलिस कितना भी हाईटेक होने का दावा कर लेकिन उसके बावजूद साइबर अपराध लगातार बढ़ते जा रहे है। साइबर अपराधियों ने अपने मंसूबों में कामयाब होने के लिए कई तरह से नए प्रयोग भी करना शुरू कर दिए है, जिससे वह ठगी, हाईप्रोफाईल अपराध समेत अन्य कई अपराधों को अंजाम दे रहे है। अपराधियों के इन गतिविधियों पर लगाम कसने के लिए अब जबलपुर शहर में भी साइबर फांरेसिंक लैब बनाया जा रहा है। हालांकि इसके अलावा राज्य के अन्य 13 जिलों में भी यह लैब बनाया जा रहा है, ताकि मामलों को जल्द से जल्द सुलझाया जा सके। इसमें सबसे महत्वपूर्ण कार्य डाटा रिकवरी का होगा, अब तक इस कार्य के लिए भोपाल साइबर लैब में जानकारी भेजी जाती थी।

डाटा को रिकवर करने होंगे साफ्टवेयर
लैब की सबसे बड़ी विशेषता डाटा रिकवरी की होगी। इससे जुडे सभी साफ्टवेयर लैब में होंगे, जिससे आसानी से डाटा रिकवर भी हो जाएगा और उसे संरक्षित करके भी रखा जा सकेगा। इसके अलावा सीडीआर, लोकेशन की जानकारी और अन्य हाईटैक फंक्शन भी होंगे, जिससे अपराधी कितना  भी शातिर हो उसे जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

भोपाल भेजने से होती थी देरी
अब तक प्रदेश में सिर्फ भोपाल में ही डाटा रिकवरी का लैब था। जहां पूरे प्रदेश के मामलों की जानकारी जाती थी, एक ही लैब होने के कारण कार्य में देरी होती थी।

एसपी कार्यालय के सामने नई बिल्डिंग में बनेगा लैब
जबलपुर में साइबर लैब के लिए पुलिस अधिकारियों ने एसपी कार्यालय के सामने बनी नई बिल्डिंग के उपरी मंजिल में स्थान दिया हैं। जहां से शहर और आसपास के छोटे जिलों के भी साइबर के मामलों की जांच की जाएगी। साइबर लैब जल्द ही बनाया जाएगा। आधुनिक साफ्टवेयर की मदद से बेहतर कार्य किया जाएगा। इससे मामलों की जल्द विवेचना करने में मदद मिलेगी।