नर्मदा की लहरों में विलुप्त हुआ धुआंधार, प्रशासन ने नहीं किए सुरक्षा के इंतजाम

-In-the-shivering-cold

जबलपुर, संदीप कुमार

जबलपुर संभाग में 2 दिन से भारी बारिश क्या हुई इसका पूरा असर विश्व प्रसिद्ध भेड़ाघाट धुआंधार में देखने को मिल रहा है। नर्मदा की लहरों के बीच धुआंधार पूरी तरह से विलुप्त हो गया है। जहां कभी धुआंधार हुआ करता था आज वहां पर सिर्फ पानी ही पानी दिख रहा है ऐसे में धुआंधार देखने आने वाले पर्यटकों को भी खासा निराश होना पड़ रहा है।

जबलपुर संभाग में 2 दिनों से भारी बारिश हो रही है और इस बीच बरगी बांध के द्वार भी खोले गए हैं जिसके चलते भेड़ाघाट का धुआंधार पूरी तरह से विलुप्त हो गया है। कल तक जहां चट्टानों के बीच पानी गिरने का दृश्य दिखाई देता था तो वहीं आज सिर्फ पानी ही पानी नजर आ रहा है।

उत्तर प्रदेश इलाहाबाद से आया परिवार हुआ निराश
इलाहाबाद निवासी सजल शुक्ला बताते हैं कि कोरोना काल में बीते 3 महीनों से वह अपने घरों पर लॉक डाउन थे। सजल शुक्ला बताते हैं कि जबलपुर के धुआंधार का बहुत नाम सुना था परिवार वालों ने भी जिद की धुआंधार देखना है लिहाजा सजल शुक्ला अपने पूरे परिवार के साथ भेड़ाघाट पहुंचे पर जब वह यहां पर आए तो उन्हें धुआंधार देखने को नहीं मिला वजह यह थी कि धुआंधार के ऊपर से पानी बह रहा है।

वही दीपाली बताती हैं कि वह अपने परिवार के साथ आज भेड़ाघाट घूमने आई थी उन्हें भी धुआंधार देखने की काफी इच्छा थी, क्योंकि करीब 10 साल पहले वह भेड़ाघाट आई थी और उसके बाद से ही उसका मन था कि वह भेड़ाघाट में आकर घूमे, पर आज जब भेड़ाघाट में आकर देखा गया तो यहां पर धुआंधार तो नहीं सिर्फ पानी ही पानी दिख रहा है,ऐसे में निश्चित रूप से उन्हें भी निराशा हुई है।

जिला प्रशासन द्वारा सुरक्षा का इंतजाम नहीं
भारी बारिश होने के बाद से ही भेड़ाघाट पर्यटन स्थल पर पर्यटकों की आवाजाही पर रोक लग जाया जाता है पर इस बार बारिश होने के बाद भी जिला प्रशासन ने इस और ध्यान नहीं दिया है। भेड़ाघाट के धुआंधार को पर्यटन के लिए बंद कर दिया जाता है ऐसे में अभी भी जान जोखिम में डालकर लोग धुआंधार देखने जा रहे हैं।ऐसे में कहा जा सकता है कि एक छोटी सी लापरवाही से बड़ी घटना धुआंधार में हो सकती है।