26 फरवरी को थमे रहेंगे बसों के पहिये, इसलिये लिया गया ये फैसला

जबलपुर, संदीप कुमार। मध्यप्रदेश बस ओनर एसोसिएशन के आह्वान पर जबलपुर बस ऑपरेटर एसोसिएशन की आकस्मिक बैठक आईएसबीटी बस स्टेण्ड पर एसोसिएशन के अध्यक्ष कमल किशोर तिवारी की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। जिसमें सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि मध्यप्रदेश के साथ जबलपुर में 26 फरवरी की प्रात: 5 बजे से 27 फरवरी की प्रात: 5 बजे तक बसों के पहिए जाम रहेंगे।

बैठक को सम्बोधित करते हुए एसोसिएशन के सचिव वीरेन्द्र साहू ने कहा कि बस ऑपरेटर मध्यप्रदेश सरकार से लगातार डीजल, टायर, स्पेयर पाट्र्स के मूल्यों में वृद्धि के कारण किराये में वृद्धि की मांग करते आ रहे हैं। 18 सितम्बर 2020 में किराया नियंत्रण बोर्ड की बैठक हुई जिसमें प्रमुख सचिव परिवहन भी सदस्य हैं। किराये में 50 प्रतिशत की वृद्धि की सहमति के बावजूद आज दिनांक तक शासन द्वारा कोई निर्णय नहीं लिया है। वीरेंद्र साहू द्वारा कहा गया कि जब किराया नियंत्रण बोर्ड की बैठक हुई, उस समय डीजल की दरें 82 रूपये प्रतिलीटर थी, जो आज 90 रूपये पहुंच गई हैं व अभी भी प्रतिदिन वृद्धि हो रही है। ऐसी स्थिति में बसों के संचालन में बहुत मुश्किल हो रही है, लगातार घाटे से बस ऑपरेटर परेशान हैं, वर्तमान किराये का निर्धारण उस समय का है जब डीजल 58 रूपये प्रति लीटर था।

पेट्रोल एवं डीजल में बेतहासा वृद्धि से बस ऑपरेटरों के साथ साथ आमजन एवं किसान भी परेशान हैं, अत: एसोसिएशन मांग करती है कि डीजल एवं पेट्रोल को जीएसटी के दायरे में रखा जावे। इन मांगों के लिए प्रदेश स्तर पर अभी 24 घण्टे की सांकेतिक हड़ताल का नारा दिया है, इसके बाद भी यदि मांगों की पूर्ति नहीं हुई तो सम्पूर्ण प्रदेश में अनिश्चित कालीन हड़ताल के लिए मजबूर होना पड़ेगा। आम सभा में प्रमुख रूप से सचिव वीरेन्द्र साहू, वरिष्ठ उपाध्यक्ष शंकर दयाल शर्मा के अलावा वरिष्ठ बस ऑपरेटर महेन्द्र चौधरी, बच्चू रोहाणी, उदयचंद जैन, अजय पाठक, दीपेन्द्र डोंगरे, पंकज जैन, संजय समाधिया, माजिद खान, पप्पू रजक, कल्याण नियोगी, पप्पू खम्परिया, राजेश साहू, मुन्ना अंसारी, मन्टू चौधरी आदि सहित अन्य बस ऑपरेटर उपस्थित रहे।