कटनी में महावीर कोल रिसोर्सेज के 6 ठिकानों पर GST टीम ने मारा छापा, अन्य जिलों में भी जारी है जांच

Katni News: शनिवार को कटनी के महावीर कोल रिसोर्सेज पर जबलपुर स्टेट जीएसटी टीम ने छापा मारा है। घर और 5 ठिकानों पर जांच पड़ताल की गई है। इसके अलावा अन्य जिलों में भी टीम की जांच जारी है। करीब 6 ठिकानों पर अब तक 30 सदस्यीय टीम छापेमारी कर चुकी है। जिसमें शहडोल के बुढार, सिंगरौली के बैढन, कटनी के बड़वारा स्थित कोयला प्लांट समेत घर और ऑफिस भी शामिल है।

ये है कार्यवाही की वजह

पूरी कार्यवाही का नेतृत्व असिस्टेंट कमिश्नर स्टेट जीएसटी एंटी विजन ब्यूरो प्रकाशचंद्र बघेल कर रहे है। जिन्होंने मीडियाकर्मियों को बताया की बिलों में गड़बड़ी के चलते आज महावीर कोल रिसोर्सेज के 6 ठिकानों पर दबिश दी गई है। जिसमें शहडोल के बुढार, सिंगरौली के बैढन, कटनी के बड़वारा स्थित कोयला प्लांट समेत घर, ऑफिस पर पहुंचकर जांच की जा रही है। उन्होनें कहा कि विभाग को यह खबर मिली थी कि महावीर कोल रोसोर्सेज के टर्नओवर में कुछ खामियाँ हैं। सरकार को इंसके द्वारा किये जाने वाले टैक्स भुगतान में भी कई खामियाँ मिली थी। उन्होनें यह भी बताया की अलग-अलग ठिकानों से आए दस्तावेजों की जांच की जाएगी। उसके बाद ही कोई एक्शन लिया जाएगा।

कोयला व्यवासियो में हड़कंप मचा

महावीर कोल कोयले का क्रय-विक्रय के साथ ही परिवहन का काम करती है। महावीर कोल रिसोर्सेज के मालिक उत्तम चंद्र जैन है, जिन्हें कटनी कोल किंग के नाम से भी जाना जाता है। वही एसजीएसटी की कार्यवाही से पूरे कोल व्यवासियो में हड़कंप मचा हुआ है। जांच कब ताकि चलेगी इसक जानकारी अभी तक नहीं दी जा सकती है। अन्य ठिकानों पर भी जीएसटी टीम जांच करने में जुटी हुई है।
कटनी से अभिषेक दुबे की रिपोर्ट


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News