MP Panchayat Election : अब पिछड़ा वर्ग आयोग अध्यक्ष ने कही ये बड़ी बात

मप्र पिछड़ा वर्ग आयोग के गठन के बाद अध्यक्ष पहली बार कटनी प्रवास पर पहुंचे थे।

कटनी, अभिषेक दुबे। मध्य प्रदेश सरकार द्वारा पिछड़ा युवा कल्याण वर्ग कल्याण आयोग के गठन के बाद पहले प्रवास पर कटनी पहुंचे पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष गौरीशंकर बिसेन(Gaurishankar Bisen Chairman Backward Classes Commission) ने कहा है कि आयोग इस समय प्रदेश के प्रवास पर है और पिछड़ा वर्ग से सम्बंधित आंकड़े जुटा रहा है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने संकल्प पारित किया है कि बिना ओबीसी आरक्षण के पंचायत चुनाव नहीं होंगे और हम इसे लेकर पूरी तैयारी के साथ न्यायालय जायेंगे।

बुधवार को अल्प प्रवास पर कटनी पहुंचे पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष गौरीशंकर बिसेन कलेक्ट्रेट सभागार में समीक्षा बैठक में शामिल हुए। उन्होंने मीडियस इ बातचीत में बताया कि हमने कुछ बिंदु जिला प्रशासन को दिए हैं जिसमें कई तरह के आंकड़े प्राप्त करना है, राज्य में पिछड़े वर्ग की जनसंख्या के आंकड़े प्राप्त करना है एवं पिछड़े वर्ग के द्वारा किए जाने वाले कार्य का गजट नोटिफिकेशन हुआ है पिछड़े वर्ग का सामाजिक, आर्थिक एवं शैक्षणिक उनके वेलफेयर की योजना बनाने के पूर्व उनकी जनसंख्या के बारे में एवं स्थिति को लेकर आयोग मध्यप्रदेश के प्रवास पर है लगभग प्रदेश के आधे जिलों में पर जा चुके हैं शेष जिलों में इस महीने पहुंच जायेंगे।

ये भी पढ़ें – BJP कार्यकर्ताओं को मंत्र – “बूथ मजबूत तो पार्टी मजबूत, बूथ जीता तो चुनाव जीता”

उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में जो पंचायत राज्य के चुनाव हो रहे थे पिछड़े वर्ग के आरक्षण के विषय को लेकर के स्थगित किए गए थे सरकार के माध्यम से न्यायालय में हमें भी अपना पक्ष रखना है राज्य में पंचायत, वार्ड स्तर पर पिछड़ा वर्ग के मतदाताओं की संख्या का आंकड़ा प्राप्त कर रहे हैं जिसे न्यायालय के सामने प्रस्तुत किया जा सकेगा।

ये भी पढ़ें – MP : ड्रोन नीति पर सीएम शिवराज के निर्देश- IT निवेश नीति पर हो कठोर अमल, शुरू करें प्रशिक्षण कार्यक्रम

मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि 2014 के आधार पर जो चुनाव हो रहे थे उस में आरक्षण को स्थान था कांग्रेस के लोग और हमारे अनेक ऐसे लोग जो न्यायालय गए और यह जो पंचायत के चुनाव को रोकने का प्रयास किया गया है उसका खामियाजा राज्य की जनता को भुगतना पड़ रहा है उसका निराकरण करने के लिए ही हम पूरी तैयारी के साथ ही न्यायालय जाएंगे।