खंडवा, सुशील विधाणी। देश व प्रदेश की सरकारें जहां महिला सशक्तिकरण (women empowerment) के माध्यम से महिलाओं को आत्मनिर्भर (self dependent) बना रही हैं वहीं समान अधिकार के अंतर्गत चुनाव में भी 50 प्रतिशत की भागीदारी महिलाओं की कर उन्हें सम्मान दे रही है। आज पुरे देश में तरह-तरह की महिलाओं को अलग-अलग सम्मानों से पुरुस्कृत किया गया। वर्तमान में महिलाएं स्वयं शक्तिशाली बनकर अपनी गृहस्थी चला कर व्यापार व्यवसाय में भी बढ़चढ़ आगे बढ़ रही हैं। इसी के चलते आज मंगलवार को खंडवा में एक ऐसी महिला का भी सम्मान किया गया जो बस स्टैंड पर चने-मुरमुरे बेचने का कार्य करती हैं।

यह भी पढ़ें….Satna News: यूरोपियन दंपत्ति ने सतना की 2 अनाथ लड़कियों को लिया गोद

समाजसेवी सुनील जैन ने बताया कि विगत 25 वर्षो से खंडवा माखनलाल चतुर्वेदी (Khandwa Makhanlal Chaturvedi) बस स्टैंड पर अपने पति के गुजर जाने पर आशा बाई माझी चने व धानी की दुकान लगाकर अपना व परिवार का पालन-पोषण कर रही है। इस बीच कई उतार चढ़ाव आए लेकिन उन्होंने अपनी हिम्मत नहीं हारी और अपना व्यवसाय करती रही। पूरे बस स्टैंड पर आशा बाई ने अपनी सरल कार्यशैली से सबका दिल जीता है। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर सामाजिक बंधुओं ने बस स्टैंड पहुंचकर आशा बाई का आत्मीयता से शाला ओढ़ा कर श्रीफल भेंट कर सम्मान किया। इस अवसर पर समाजसेवी व सद्भावना मंच के अध्यक्ष प्रमोद जैन, शिवसेना प्रमुख गणेश भावसार, समाजसेवी सुनील जैन, मुख्त्यार मनिहार, डा. जगदीशचंद्र चौरे, देवेंद्र जैन, राधेश्याम शाक्य, चंद्रकांत सांड, प्रेमांशु जैन आदि उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें….Teacher Recruitment : मप्र शिक्षक भर्ती का इंतजार खत्म, इस दिन से होगा दस्तावेजों का सत्यापन