अंतरराष्ट्रीय मानव अधिकार दिवस पर घरेलू कामकाजी महिलाएं उतरीं सड़कों पर

खंडवा (सुशील विधानी) अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस 10 दिसंबर 2019 आज के दिन घरेलू कामकाजी महिलाओं ने अपनी विभिन्न मांगों को लेकर आज राज्य सरकार के नाम पर कलेक्टर महोदय को एक ज्ञापन दिया जिसमें बताया गया कि मध्य प्रदेश ट्रेड यूनियन घरेलू कामकाजी संगठन की शुरुआत वर्ष 200 6 से हुई थी विगत 11 वर्षों से इंदौर कामकाजी ट्रेड यूनियन महिलाओं और उनके बच्चों के उत्थान के लिए कार्य कर रहा है वर्ष 2014 से संत मेरिस कैंपस गणेश तलाई रोड पर खंडवा की महिलाओं के लिए कार्य कर रहा है खंडवा में अलग-अलग क्षेत्र से 34 समूह द्वारा 700 घरेलू कामकाजी महिलाओं को यूनियन में पंजीकृत किया गया है जो अपनी विभिन्न मांगों के लिए आज सड़कों पर उतरी महिलाओं ने बताया कि कुछ राज्यों में घरेलू कामकाजी महिलाओं के लिए न्यूनतम वेतन बनाया गया है मध्यप्रदेश में कमलनाथ सरकार से भी निवेदन है कि घरेलू कामकाजी महिलाओं के लिए अलग से पॉलिसी लागू की जाए महिलाओं की मांग थी की मध्य प्रदेश सरकार उचित वेतन तय करें सप्ताह में छुट्टी का प्रावधान भी मिले अलग से राष्ट्रीय कानून बनाया जाए श्रमिक संगठन महा अभियान सी 189 को लागू किया जाए जिससे हम कामकाजी महिलाओं को काफी सहूलियत मिलेंगी और मध्य प्रदेश में कामकाजी महिलाओं के लिए मुख्यमंत्री शहरी घरेलू कामकाजी कल्याण योजना 2009 को लागू किया जाए ऐसी विभिन्न मांगों को लेकर कामकाजी महिलाओं ने आज कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर अपने हक के लिए नारेबाजी की और ज्ञापन सौंपा