MP सरकार की ओर से हॉकी कोच डॉ. हबीब हसन को मिलेगा विश्वामित्र अवार्ड

खेल विभाग ने 2020 के खेल पुरस्कारों के लिए नामों का ऐलान कर दिया है। जिसमें कोच डॉ. हबीब हसन, समेत रिचपाल सिंह सालरिया एवं वीरेंद्र डबास को विश्वामित्र अवॉर्ड से नवाजा जाएगा।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश का सर्वोच्च कोचिंग पुरस्कार यानी विश्वामित्र पुरस्कार के लिये मध्यप्रदेश के हॉकी कोच हबीब हसन को चुना गया है। खेल विभाग द्वारा हर साल स्पोर्टस् कोचों को विश्वामित्र पुरस्कार दिया जाता है, वहीं इस बार स्पोर्ट्स पीएचडी होल्डर हॉकी कोच हबीब हसन को इस पुरस्कार से नवाज़ा जाएगा। आपको बता दें, हबीब ने टोक्यो ओलिंपिक में कांस्य पदक जीतने वाले हॉकी खिलाड़ी विवेक सागर और नीलकांत को कोच किया था।

ये भी देखें- Indore News: ‘देशराग’ में BJP MP के कदम थिरके, BSF जवानों के साथ किया जमकर डांस

बता दें, हॉकी कोच हबीब हसन सन् 1998 से हॉकी कोचिंग से जुड़े हुए हैं। उन्होंने बताया कि अपने खेल करियर को पूरा करने के बाद, उन्होंने राज्य में बड़ी संख्या में मौजूद नवोदित प्रतिभाओं को कोचिंग देने का सोचा। ये मौका उन्हें तब मिला जब उन्होंने खेल विभाग ज्वाइन किया। 48 वर्षीय हसन 2006 से मप्र पुरुष हॉकी अकादमी से जुड़े रहे हैं। आपको बता दें, कोच हसन ने टोक्यो ओलिंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीतने वाली हॉकी टीम के खिलाड़ी विवेक सागर, नीलकंठ, अरमान कुरैशी, मोहम्मद उमर और कई अन्य नामी प्लेयर्स को अपनी कोचिंग के तहत हॉकी की बारीकियों को सिखाया है।

प्रदेश के प्रतिभाओं को प्रोत्साहित करते हुए हबीब ने कहा कि इस समय खिलाड़ी सही दिशा में हैं। “विवेक और नीलकंठ जैसे खिलाड़ियों ने साबित कर दिया है कि उचित कोचिंग से भारतीय हॉकी टीमों के लिए ज्यादा खिलाड़ियों को तैयार कर सकती है। हबीब ने कहा, राज्य में प्रतिभाओं की कमी नहीं है, केवल उन्हें अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करने के लिये एक अवसर की जरूरत है।

ये भी देखें- MP News: BJP के पूर्व जिला अध्यक्ष ने नाबालिग से किया रेप! दर्ज हुआ FIR

आपको बता दें, टोक्यो ओलिंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीतने वाली हॉकी टीम के खिलाड़ी विवेक सागर और पैरा कैनोइंग खिलाड़ी प्राची यादव समेत 10 खिलाड़ियों को MP सरकार विक्रम अवॉर्ड से पुरस्कृत करेगी। खेल विभाग ने शनिवार को 2020 के खेल पुरस्कारों के लिए नामों का ऐलान कर दिया है। जिसमें कोच डॉ. हबीब हसन, समेत रिचपाल सिंह सालरिया एवं वीरेंद्र डबास को विश्वामित्र अवॉर्ड से नवाजा जाएगा।