कोरोना टेस्ट के लिए जा रहा आरोपी भागा, जनता ने पकड़कर किया पुलिस के हवाले

उसे बगैर हथकड़ी के ही डॉक्टर के पास कोरोना जांच कराने ले गए थे। तभी मौके का फायदा उठाकर भाग गया। यह पूरा मामला कोतवाली थाने के अर्न्तगत जेल रोड के पास घटित हुआ है

मुरैना, संजय दीक्षित। मुरैना के सिविल लाइन थाना पुलिस की कार्यप्रणाली हमेशा ही संदेह के घेरे में रही हैं। चाहे शराब माफियाओं के मामला हो या फिर जुआरियों का मामला हो। यहाँ पदस्थ स्टाफ की लापरवाहियां सामने आती रही है ऐसा ही  मामला शनिवार को देखने को मिला है जिसमें कोरोना का टेस्ट कराने आए आरोपी के हाथ में ना हथकड़ी थी ना ही रस्सी थी वो  वो मौका देखकर फरार हो गया। वो तो भला हो जनता का जिसने पकड़कर आरोपी को पुलिस के हवाले कर दिया।

शनिवार को सिविल लाइन थाना पुलिस की घोर लापरवाही सामने आई है। शराब तस्करी के मामले में पुलिस ने दो आरोपियों को शुक्रवार को गिरफ्तार किया था। जिनको पुलिस जिला अस्पताल में कोरोना टेस्ट कराने लाई थी। एक आरोपी गाड़ी में बैठा रहा तथा दूसरे आरोपी को पुलिस बिना हथकड़ी लगाए टेस्ट कराने ले गई। पुलिस की लापरवाही का फायदा आरोपी ने उठाया और मौका देखकर भाग निकला। आरोपी के भागते ही पुलिस कर्मियों के हाथ पैर फूल गए उन्होंने आरोपी को पकड़ने  दौड़ लगाई लेकिन जनता ने आरोपी को पकड़कर  पुलिस के हवाले कर दिया।

ये भी पढ़ें – मुरैना : कलेक्टर बंगले के पीछे फायरिंग करने वाले आरोपियों की हुई पहचान, तलाश में जुटी पुलिस

इस पूरे घटनाक्रम ने सिविल लाइन थाना पुलिस की कार्यप्रणाली को संदेह के घेरे में लाकर खड़ा कर दिया है। ावल ये उठा रहा है कि सिविल लाइन थाना पुलिस जब आरोपी का कोरोना टेस्ट कराने जिला अस्पताल लेकर आई तो अस्पताल लाकर एक आरोपी निरोति कुशवाह, उम्र 32 वर्ष को पुलिस वालों ने खुला छोड़ दिया उसके हाथ में ना हथकड़ी लगाई और ना ही उसके हाथ बांधे। उसे बगैर हथकड़ी के ही डॉक्टर के पास कोरोना जांच कराने ले गए थे। तभी मौके का फायदा उठाकर भाग गया। यह पूरा मामला कोतवाली थाने के अर्न्तगत जेल रोड के पास घटित हुआ है।

ये भी पढ़ें – सीएम शिवराज ने कांग्रेस को घेरा, कहा- ‘झूठ बोलकर प्रदेश में लगाना चाहती है आग’

फिलहाल इस पूरे मामले में पुलिस लाइन थाना पुलिस की कार्यप्रणाली को संदेह की नजर से देखा जा रहा है। इस मामले में जब सिविल लाइन थाना प्रभारी विनय यादव से बात की तो उन्होंने बताया कि हथकड़ी की चेन खराब थी। आरोपी  भाग गया था लेकिन तुरंत ही पकड़ा गया है। जब उनसे पूछा गया कि उसके हाथ क्यों नहीं बांधे थे तो वह इस सवाल का  वे उचित जवाब नहीं दे सके।