ग्वालियर, अतुल सक्सेना।  ग्वालियर नगर निगम (Gwalior Municipal Corporation) के एक कर्मचारी के साथ कार्यालय में घुसकर मारपीट करने का मामला सामने आया है। ऑफिस के कर्मचारी घायल कर्मचारी को लेकर पड़ाव पुलिस थाने (Padav Police Station) पहुँच गए।  घायल कर्मचारी ने मारपीट के आरोप पूर्व पार्षद के बेटे पर लगाए हैं , पीड़ित का कहना है कि मारपीट करने वाले व्यक्ति ने उसे जान से  मारने की धमकी भी दी है।  उधर पूर्व पार्षद के बेटे ने निगम कर्मचारी पर काम के बदले पैसे मांगने और गरीब महिलाओं को परेशान करने के आरोप लगाए हैं। उन्होंने मारपीट करने से इंकार किया है

ग्वालियर नगर निगम के क्षेत्रीय कार्यालय क्रमांक 13 मोतीमहल में पदस्थ कर्मचारी जावेद खान ने मनोज शर्मा मन्नू नामक व्यक्ति पर ऑफिस में घुसकर गाली गलौज और मारपीट करने के आरोप लगाए हैं। पीड़ित कर्मचारी जावेद खान ने आरोप लगाए कि मनोज शर्मा वार्ड 57 की पूर्व पार्षद कुसुम शर्मा के बेटे हैं लेकिन खुद को पार्षद कहते हुए धमकियाँ देते हैं। जबकि वर्तमान में नगर निगम में कोई भी पार्षद नहीं है। पीड़ित कर्मचारी ने कहा कि मनोज शर्मा अवैध काम के लिए दबाव बनाते हैं और जब हम इंकार करते हैं तो वे अभद्रता करते हैं।

ये भी पढ़ें – 17 लाख लोगों के वैक्सीनेशन पर कांग्रेस का बड़ा हमला, शिवराज सरकार पर धांधली के आरोप

पीड़ित कर्मचारी जावेद खान ने कहा कि आज भी वो जब आये मैं ऑफिस में काम कर रहा था अचानक गालियां देने लगे , उन्होने मेरे मुंह में घूंसे मारे जिससे मुझे खून निकल आया , जाते जाते मनोज शर्मा जान से मरने और नौकरी नहीं कर पाने की धमकी देकर चले गए। कर्मचारी का कहना है कि मेरी जान को खतरा है यदि मुझे कुछ होता है तो उसके जिम्मेदार मनोज शर्मा मन्नू होंगे।

ये भी पढ़ें – सरकारी कर्मचारियों को उज्जैन कलेक्टर के निर्देश- ऐसा नहीं किया तो नहीं मिलेगी सैलरी

उधर पूर्व पार्षद के बेटे मनोज शर्मा मन्नू ने उनके द्वारा मारपीट करने से इंकार करते हुए उल्टा निगम कर्मचारी और उसके साथियों पर मारपीट के आरोप लगाए हैं।  मनोज शर्मा ने कहा कि मेरी मम्मी पूर्व पार्षद हैं मेरे वार्ड की महिलाएं और गरीब लोग जब इस कर्मचारी के पास राशन की पात्रता पर्ची या समग्र आईडी के लिए आते हैं तो ये परेशान  करता है जो लोग पैसे दे देते हैं उनके काम जल्दी कर देता है।  आज मैं जोनल ऑफिसर कार्तिक पटेल के पास इसकी शिकायत करने गया था तो इसने उनके सामने ही मेरे साथ अभद्रता की।  इसके साथ मौजूद अन्य कर्मचारियों ने मेरी कॉलर पकड़ ली और गालियां दी।

ये भी पढ़ें – Chhindwara : वन विभाग को मिली कामयाबी, अवैध सागौन की लकड़ी सहित आरोपी पकड़ा

बहरहाल दोनों पक्ष एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं और पुलिस थाने पहुंच गए हैं।  पुलिस दोनों पक्षों से बात कर मामले को सुलझाने का प्रयास कर रही है