नीमच की ग्राम पंचायत को मिले 2 राष्ट्रीय अवार्ड, केंद्रीय मंत्री ने वीसी के जरिए की सरपंच से बात

नीमच, श्याम जाटव

नीमच जिले की ग्राम पंचायत को मिले दो राष्ट्रीय अवार्ड मिले हैं। ग्राम पंचायत भरभडिया को पंचायत राज दिवस (24 अप्रैल) के मौके पर चाइल्ड फ्रैंडली और 16 जून को सर्वाधिक कर वसूली व संसाधन करने पर यह अवार्ड दिया गया। इस गौरव का भागीदार बनने के बाद भरभड़िया पंचायत की सरपंच से केंद्रीय पंचायत मंत्री नरेंद्र तोमर ने वीडियो कानफ्रेंसिंग के जरिये बात की।

राष्ट्रीय स्तर पर दिए जाने वाले अवार्ड विजेताओं में देशभर की पंचायतें शामिल हैं और इनमें नीमच जिले को भी 2 अवार्ड मिले हैं। शुक्रवार को केंद्रीय पंचायत राज मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर ने सभी विजेताओं से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चर्चा की। मध्यप्रदेश से एक मात्र जिले की आदर्श ग्राम पंचायत भरभडिया की सरपंच भी इनमें शामिल रहीं।

मंत्री जी ने जब पंचायत को मिले अवार्ड की राशि के उपयोग के बारे में सवाल किया तो सरपंच ने बताया राशि का उपयोग गांव में सीसी रोड, नलयोजना, पाइप लाइन विस्तार, नाली निर्माण आदि विकास कार्यों में में खर्च किए जाएगा। इसके बाद फिर उन्होंने पूछा गांव से कर वसूली कैसे की गई तो सरपंच ने कहा कि गांवों के लोगों को पब्लिक एड्रेस सिस्टम से जागरुक करते रहे। यह चर्चा जिला पंचायत सभागृह में वीडियो कान्फ्रेंस से हुई। जिसमें जिला पंचायत सीईओ भव्या मित्तल, सचिव राजेंद्र नागर, सहायक सचिव अजय पाटीदार व सरपंच प्रतिनिधि श्याम जाटव उपस्थित थे।

गौरतलब है ग्राम पंचायत भरभडिया को पंचायत राज दिवस (24 अप्रैल) के मौके पर चाइल्ड फ्रैंडली और 16 जून को सर्वाधिक कर वसूली व संसाधन करने पर यह अवार्ड दिया गया। राष्ट्रीय स्तर पर हर साल सरकार यह अवार्ड देती है जिसमें अब यह काफी प्रतिस्पर्धी रहो गए हैं। इसमें कुल 306 अवार्ड दिए जाते है। इसके लिए इस बार 55 हजार लोगों ने आवेदन किया था। जिन लोगों ने यह अवार्ड जीता है वास्तव में उन्होने बहुत अच्छा काम किया है। अब वे अन्य लोगों के लिए प्रेरणा स्त्रोत बनेंगे।

इस कार्यक्रम देश के सभी राज्यों के पंचायत मंत्री व विभाग प्रमुख भी शामिल हुए। इन सभी से भी मंत्री तोमर ने चर्चा की। उन्होंने कहा कोरोना ने कई मुसीबतें खड़ी की हैं। देश को अब आत्मनिर्भर बनना ही पड़ेगा। बिना ऐसे संकट को झेलना मुश्किल हो जाएगा। पंचायत, जिले और राज्य आत्मनिर्भर बनें, ताकि अपनी जरूरतों के लिए कभी बाहरियों का मुंह न देखना पड़े।

तकनीक से पारदर्शिता बढ़ेगी
नरेंद्र तोमर ने कहा पंचायत राज दिवस पर स्वामित्व योजना शुरू की गई है। इसके तहत गांवों में ड्रोन से एक-एक संपत्ति की मैपिंग की जाएगी। इससे लोगों के बीच झगड़े खत्म हो जाएंगे, विकास कार्यों को गति मिलेगी और शहरों की तरह इन संपत्तियों पर बैंक से लोन लिया जा सकेगा। अभी उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश समेत 6 राज्यों में इस योजना को ट्रायल के तौर पर शुरू कर रहे हैं। फिर इसे देश के हर गांव में लागू किया जाएगा।

सरपंच गांव का प्रधानंत्री होता है
मंत्री नरेंद्र तोमर कहा कि सरपंच गांव का प्रधानमंत्री होता है। उस पर गांव विकास के साथ कई तरह की जिम्मेदारी होती है। गांव में कोई शिक्षा से वंचित और कुपोषित नहीं रहे, यही कारण है कि कोरोना संकट के समय जहां देश हर क्षेत्र नीचे की तरफ आ गया है वहीं कृषि का क्षेत्र को ऊपर की ओर ही जा रहा है। जहां स्थानीय आधार पर अर्थव्यवस्था निर्भर करती है।

केंद्रीय मंत्री से सीधी बात करना गर्व की बात
भरभड़िया सरपंच हंसा जाटव ने कहा कि लोकतंत्र की सबसे छोटी संस्था ग्राम पंचायत होती है। अगर भारत सरकार का केंद्रीय मंत्री उनके चुने हुए प्रतिनिधि से बात करता है यह बड़े गर्व की बात है। प्रदेश की इकलौती पंचायत भरभडिया है जहां सभी के सहयोग से दो राष्ट्रीय अवार्ड है। मंत्री तोमर भी प्रदेश के प्रतिनिधि है और उन्होंने सबसे पहले नीमच जिले कान्फ्रेंस की शुरुआत की।

MP Breaking News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here