बैंक के कर्ज ने ली किसान की जान, लगातार नोटिस से थे मानसिक दबाव में

रायसेन, डेस्क रिपोर्ट। बैंक के कर्ज और फिर लगातार नोटिस ने एक किसान की जान ले ली। जमुनिया दीवानगंज के रहने वाले 65 साल के किसान गोरेलाल लोधी ने अपने खेत में ही आम के पेड़ में फांसी लगा ली, गोरेलाल लोधी घर से खेत जाने का कहकर निकले थे। लेकिन जब देर तक वापस घर नही पहुंचे तो उन्हे देखने परिजन खेत पहुँचे, जहां गोरेलाल पेड़ पर फांसी पर लटके मिले। परिजनों की माने तो गोरेलाल पर करीबन 8 लाख का कर्ज था। और इसी कर्ज के तनाव से उन्होंने अपनी जान दे दी।

जीतू पटवारी ने पीएम मोदी पर साधा निशाना, कहा- लोग पेट्रोल पंप को मोदी लूट केंद्र कहने लगे हैं

मृतक किसान के पास करीब 5 एकड़ भोपाल और 6 एकड़ रायसेन में जमीन थी। गोरेलाल के परिजनों का कहना है कि उन पर बिजली बिल, सोसाइटी और बैंक का 8 लाख रुपए कर्ज था। कर्ज तले दबे पिता तनाव में चल रहे थे। भोपाल और रायसेन में जो कृषि भूमि है। उसी पर कर्ज लिया गया था, बैंक बार बार नोटिस दे रहा था, इसी के चलते वे परेशान थे। पिता पर भोपाल की बैंक और रायसेन की बैंक और सोसाइटी का कर्ज था, बिजली बिल भी चुकाना था, इन्हीं सब बातों से परेशान होकर पिता ने यह कदम उठाया। फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है, और आत्महत्या के कारणों की जांच कर रही है।