राजगढ़ में दर्दनाक हादसे में तीन भाई-बहनों की मौत, शनि मंदिर से लौटते वक़्त हुई घटना

राजगढ़, डेस्क रिपोर्ट। राजगढ़ जिले के खिलचीपुर में दर्दनाक हादसे में तीन लोगों की मौत हो गई, शनिवार देर शाम हुए इस हादसे में तीन भाई बहनों की मौत हो गई। भाई सगी बहन और काका की बेटी को लेकर खिलचीपुर के शनि मंदिर गया था। लौटते समय जयपुर-जबलपुर नेशनल हाईवे पर ट्रक ने उन्हें टक्कर मार दी। सड़क पर गिरते ही तीनों के ऊपर ट्रक चढ़ गया। एक युवती तो ट्रक के पहिए के नीचे ही दबी रही गई, जिसे बमुश्किल निकाला गया। जानकारी के अनुसार तीनों भाई-बहन इकलौते थे। हालांकि मृतक कमल अपनी तीन बहनों को लेकर मंदिर निकला था लेकिन वापस लौटते वक़्त एक बहन दूसरी मोटरसाइकिल मे सवार हो गई थी जिससे उसकी जान बच गई।

MP News : अतिथि शिक्षकों के मानदेय में होगी कटौती, की जाएगी बड़ी कार्रवाई, जाने कारण

जानकारी अनुसार हादसे में 21 साल के कमल पुत्र प्रेमनारायण सौंध्या निवासी बरूआखेड़ी, 19 साल की रेखा पिता प्रेम नारायण सौंध्या और 16 साल की काका की बेटी निशा पिता इंदरसिंह सौंध्या की मौत हुई है। शनिवार को कमल तीनों बहनों रेखा, सुनीता और काका की बेटी निशा सिंह को लेकर एक ही बाइक से घर से शनि मंदिर खिलचीपुर दर्शन करने जाने का कहकर निकला था।

IAS अधिकारी की मां से लाखों रुपए की धोखाधड़ी, जमीन की खरीद-फरोख्त के नाम पर फर्जीवाड़ा

शनि अमावस्या पर दर्शन के बाद शाम को वापस घर जाने के लिए लौट रहा था। जहां खिलचीपुर थाने के बाबड़ीखेड़ा गांव के पास पहुंचा। यहां सामने से आ रहे ट्रक आरजे 21 जीबी 9927 ने उन्हें टक्कर मार दी। टक्कर लगते ही बाइक अनियंत्रित होकर गिर गई। बाइक सवार कमल और उसकी बहनें उछलकर सड़क पर गिर गई। तीनों को तेज रफ्तार ट्रक ने रौंद दिया। हादसे के बाद ट्रक ड्राइवर गाड़ी छोड़कर भाग निकला, जबकि लोगों ने क्लीनर को पकड़ लिया। ट्रक के नीचे का नजारा देख वहां मौजूद लोगों के रोंगटे खड़े हो गए। रेखा के ऊपर ट्रक का पहिया था। वह लहूलुहान नीचे दबी हुई थी। पास ही निशा भी मृत पड़ी थी। कमल की सांसें चल रही थीं। लोगों ने उसे अस्पताल ले जाने की तैयारी की, लेकिन रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया। लोगों ने रेखा को पहिए के बीच से निकालने के लिए ट्रक को धक्का देकर आगे किया। काफी मशक्कत के बाद उसे बाहर निकाला जा सका।