IAS अधिकारी की मां से लाखों रुपए की धोखाधड़ी, जमीन की खरीद-फरोख्त के नाम पर फर्जीवाड़ा

डेस्क रिपोर्ट। आईएएस अधिकारी की मां से 27.65 लाख रुपए की धोखाधड़ी का मामला सामने आया है, यह रकम हरियाणा में हिसार जिले के हांसी में जमीन की खरीद-फरोख्त के नाम पर  कर ली गई। हांसी के रामपुरा में रहने वाली सुमित्रा यादव की शिकायत पर ढ़ाणा कलां के जगदीश, उसके बेटे सुखबीर और जमीन खरीदने वाली रामपुरा की किरण देवी, कविता व अंगूरी के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज कर लिया गया। शिकायतकर्ता सुमित्रा यादव राजस्थान के जयपुर में तैनात आईएएस अधिकारी डॉ. अमित यादव की मां हैं। पुलिस को दी शिकायत में सुमित्रा यादव ने बताया कि उसने ढ़ाणा कलां में रहने वाले जगदीश और उसके बेटे सुखबीर के साथ साढ़े चार एकड़ जमीन खरीदने का सौदा 12 लाख 50 हजार रुपए प्रति एकड़ के हिसाब से किया। दोनों पिता-पुत्र को 15 अप्रैल 2021 को 25 लाख रुपए इकरारनामे के तौर पर दिए गए। इस जमीन की रजिस्ट्री 21 अक्टूबर 2021 को करवाई जानी थी। रजिस्ट्री से पहले जगदीश ने उनसे ढ़ाई लाख रुपए और लिए। जगदीश ने घर में जरूरत बताकर उनसे 20 लाख रुपए और लिए मगर उसके बदले में उन्होंने हाथों हाथ 13 कनाल जमीन की रजिस्ट्री अपने नाम करवा ली।

EPFO Alert : पीएफ एकाउंट से निकालना चाहते हैं पैसा, तो ये है एक आसान तरीका

हैरानी की बात यह है कि शिकायतकर्ताओ का आरोप है कि अधिकारियों की मिलीभगत के चलते ही यह फर्जीवाड़ा हुआ है, सुमित्रा यादव के अनुसार, तहसील में रजिस्टर्ड इकरारनामा होने के बावजूद अधिकारियों की मिलीभगत से जमीन की रजिस्ट्री दूसरी पार्टी के नाम पर की गई। यह उनके साथ धोखाधड़ी है। शिकायत मिलने के बाद हांसी सदर थाने में पुलिस ने ढ़ाणा कलां के जगदीश, उसके बेटे सुखबीर और जमीन खरीदने वाली रामपुरा की किरण देवी,कविता व अंगूरी के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज कर लिया। मामले की जांच जांच जारी है।

मंत्री गोविंद सिंह राजपूत : कार्बन उत्सर्जन में कमी लाने केंद्र के प्रयासों का भागीदार बनेगा मध्यप्रदेश

पीड़िता सुमित्रा यादव के अनुसार, रजिस्ट्री के लिए तय तारीख यानी 21 अक्टूबर 2021 को वह और उनके पति सतपाल यादव दिनभर तहसील में जगदीश और उसके बेटे सुखबीर का इंतजार करते रहे मगर दोनों नहीं आए। उन्होंने कॉल की तो दोनों ने फोन पर भी कोई जवाब नहीं दिया। इसके 5 दिन बाद, 26 अक्टूबर को जगदीश ने उन्हें बताया कि वह अपनी जमीन की रजिस्ट्री 25 अक्टूबर को ही रामपुरा की किरण देवी,कविता व अंगूरी के नाम करवा चुका है।