शासकीय मेडिकल कॉलेज में कोरोना वायरस को लेकर किया गया वर्कशॉप का आयोजन

रतलाम। सुशील खरे।

कोरोना वायरस को लेकर लोक स्वास्थ्य विभाग अलर्ट पर हैं रतलाम के शासकीय मेडिकल कॉलेज में कोरोना वायरस को लेकर वर्कशॉप का आयोजन किया गया। इसमें मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों के साथ अन्य डॉक्टरों को भी कोरोना वायरस के बारे में जानकारी दी। इन दिनों कोरोना वायरस का हर तरफ बोलबाला है और हर कोई दुआ कर रहा है कि भगवान इस वायरस से सभी को बचाए।रतलाम के मेडिकल कालेज में कोरोना वायरस के संबंध में विभागीय चिकित्‍सकों के उन्‍मुखीकरण के संबंध में कार्यशाला संपन्‍न की गई। जिसमे विभाग और जिला अस्पताल के चिकित्सकों को इस वायरस से सतर्क रहने समझाईश विस्तार से दी गई है। कार्यशाला में मेडिकल कालेज की पीएसएम विभाग की प्राध्‍यापक एवं विभागाध्‍यक्ष डा. सवर्णलता लिखार ने बताया कि इस वायरस का आकार क्राउन जैसा दिखने के कारण इसे कोरोना वायरस का नाम दिया गया है । इस वायरस का पहला मामला चीन के वुहान शहर में 12 दिसंबर 2019 को पाया गया था । डब्‍ल्‍यु एच ओ ने मामले का संज्ञान लिया और बताया कि इसका संक्रमण मनुष्‍य से मनुष्‍य और पशु से मनुष्‍य दोनो ही प्रकार का देखा गया है । चिकित्‍सकों द्वारा बीमारी के संक्रमण को रोकने के लिए सभी संभव प्रयास किए जा रहे है । इसके संक्रमण का खतरा है इस वायरस से बचाव के लिए विभागीय अमले को भी सतर्कता बरतने को कहा गया है एवं ऐसे किसी भी संभावित रोगी की जानकारी कार्यालय को प्रदान करने के निर्देश दिए गए हैं यदि कोई भी कोरोना वायरस से संभावित संक्रमित रोगी पाया जाता है तो उसे पर्याप्‍त उपचार प्रदान कर जांच का सेंपल पुणे की लेबोरेटरी में भेजा जाएगा । बीमारी से बचाव के लिए विभाग द्वारा सभी आवश्‍यक पुर्व तैयारियां कर ली गई है इस रोग से बचाव के लिए चिकित्‍सीय सलाह लेना चाहिए और अपना पूरा उपचार कराना चाहिए । साबुन से बार बार हाथ धोना चाहिए । खांसते व छींकते समय मुह पर रूमाल अवश्‍य रखना चाहिए । कार्यशाला में माईक्रोबायोलाजी विभाग की प्राध्‍यापक एवं विभागाध्‍यक्ष डा. शशि गांधी ने वायरस की संरचना आदि के बारे में विस्‍तार से जानकारी देते हुए जिला चिकित्‍सालय के चिकित्‍सक एवं स्‍टाफ को वायरस से बचाव के तरीके बताए ।