कोरोना की दूसरी लहर से निपटने के लिए रतलाम रेल मंडल की तैयारी,16 जिले में 78 आइसोलेशन कोच रेडी

रतलाम रेल मंडल (Ratlam Railway Division) ने 16 जिले में 78 आइसोलेशन कोच (Isolation coach)  फिर से तैयार कर लिए गए हैैं ,वहीं वैक्सीनेशन भी तेजी से किया जा रहा है।

रतलाम, सुशील खरे। पूरे मप्र (MP) में कोविड-19 (COVID-19) की दूसरी लहर ने कोहराम मचा रखा है। जिसके चलते सरकार इससे निपटने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। और अब इस महामारी से निपटने के लिए रेलवे (Railway) ने एक बार फिर अपनी तैयारियां कर ली है। तेजी से बढते संक्रमण को देखते हुए रतलाम रेल मंडल (Ratlam Railway Division) ने 16 जिले में 78 आइसोलेशन कोच (Isolation coach)  फिर से तैयार कर लिए गए हैैं ,वहीं वैक्सीनेशन भी तेजी से किया जा रहा है। मण्डल रेल प्रबन्धक विनीत गुुप्ता ने एक प्रेसवार्ता में उक्त जानकारी दी है। गुप्ता ने कहा कि मण्डल से चलने वाली लगभग अस्सी प्रतिशत ट्रेनों का संचालन फिर से शुरु हो चुका है। उन्होने कहा कि ट्रेनों में यात्रियों की संख्या पूरी तरह नियंत्रित रखी जा रही है और भीड़भाड़ बिल्कुल नहीं हो रही है।

रतलाम रेल मंडल डीआरएम विनीत गुप्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि कोरोना की दूसरी लहर में तेजी से बढते कोरोना संक्रमण को देखते हुए मण्डल द्वारा पूर्व में बनाए गए आइसोलेशन कोच फिर से तैयार कर लिए गए है। गुप्ता ने बताया कि मण्डल द्वारा पूर्व में कुल 78 कोच आइसोलेशन कोच बनाए गए थे। इन सभी कोचेस की साफ-सफाई करवाकर इन्हे पूरी तरह तैयार कर लिया गया है। कोरोना संक्रमण की रफ्तार पर रोक लगाने के लिए रेलवे द्वारा वैक्सीनेशन भी तेज गति से किया जा रहा है। रेलवे के विभिन्न टीकाकरण केन्द्रों पर रोजाना करीब चार सौ वैक्सीन लगाए जा रहे है।

यह भी पढ़ें….किसानों के समर्थन में उतरे अरुण यादव, सरकार से की यह बड़ी माँग

एक प्रश्न के उत्तर में गुप्ता ने बताया कि कोरोना के बढते हुए मामलों को देखते हुए उन्होने कुछ हफ्तों पहले ही जिला कलेक्टर से मास्क का उपयोग ना करने वालों पर दण्ड करने का अधिकार प्राप्त कर लिया था। रेल प्रशासन ने आरपीएफ कर्मियों और टीटीई को यह अधिकार दिए है। अब रेलवे स्टेशन पर बिना मास्क के पाए जाने पर टीटीई और आरपीएफ कर्मी जुर्माना कर सकते है। उन्होने कहा कि मास्क को लेकर जागरुकता लाने के लिए रेलवे स्टेशन पर आरपीएफ कर्मी और टीटीई को लगातार जुर्माना करने के निर्देश दिए गए है, ताकि लोगों में जागरुकता आ सके।