रीवा, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (Madhyapradesh) के रीवा जिले (Rewa District) में शुक्रवार को EOW ने सहायक ग्रेड 3 कर्मचारी के घर पर छापा मारा।यह कार्रवाई आय़ से अधिक सम्पत्ति मामले में की गई। शुरुआती जांच में 3 ट्रैक्टर, 2 जेसीबी 2 बोलेरो और फ़ार्चूनर समेत अब तक 5 करोड़ की संपत्ति का खुलासा है। हैरानी वाली बात तो ये है कि महेन्द्र प्रताप सिंह (Mahendra Pratap Singh) सहायक शिक्षक है, जिसके पास से इतनी बड़ी संपत्ति मिलना अपने आप में कई सवाल खड़े कर रहा है। इसके अलावा ईओडब्ल्यू टीम टीचर की अन्य संपति का पता लगाने में जुटी है। निरीक्षक प्रवीण कुमार (Inspector Praveen Kumar) के निर्देश पर कार्रवाई हो रही है।

मिली जानकारी के अनुसार, मामला शाहपुर थाना क्षेत्र में ग्राम गनिगवा का है। शुक्रवार को रीवा में आय से अधिक संपत्ति के मामले में ईओडब्ल्यू ने सहायक शिक्षक महेन्द्र प्रताप सिंह के यहां छापा मारा है। आर्थिक अपराध शाखा की टीम ने टीचर महेंद्र कुमार सिंह के यहां से अब तक की कार्यवाही में 3 ट्रैक्टर, 2 जेसीबी मशीन, 1 फार्च्यूनर और 2 बोलेरो वाहन बरामद किया गया है, वही पांच करोड़ और जमीन के दस्तावेज बरामद किए हैं। बड़े एरिया में बने इनके निजी विद्यालय में भी दस्तावेज खंगाले जा रहे है। वहीं बताया जा रहा है कि कर्मचारी के खिलाफ शाहपूर थाने में भी मारपीट के कई मामले दर्ज हैं।

बता दे कि रीवा में भ्रष्टाचार तेजी से फल फूल रहा है, बीते दिनों ही लोकायुक्त की टीम ने एक प्रधान आरक्षक राजीव लोचन पांडे (Chief Constable Rajeev Lochan Pandey) को 15 हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया था।जमीनी विवाद में धारा कम करने के नाम पर 25 हजार मांगे थे, 1 हजार की पहली किस्त प्रधान आरक्षक एडवांस ले चुका था, वहीं दूसरी किस्त के 15 हजार लेते हुए रंगे हाथ लोकायुक्त टीम ने गिरफ्तार कर लिया था।अब शिक्षक का मामला सामने आया है, इसके बड़े औऱ चौंकाने वाली खुलासे हो सकते है।