विवादों में मंत्री जी का अस्पताल दौरा, अपराधी से की मुलाकात

सतना, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश के पंचायत एवं ग्रामीण राज्यमंत्री रामखेलावन पटेल फिर विवादों में घिरते नजर आ रहे हैं। आज वे सतना जिला अस्पताल आए थे और 7 साल की सजायाफ्ता भाजपा नेता से वार्ड में मिलने गए थे। उसके बाद सिविल सर्जन के चेंबर में जाकर सीएस से काफी देर चर्चा भी की। हालांकि बाद में उन्होने कहा कि वो अस्पताल के रिनोवेशन के बाद वहां का जायज़ा लेने आए थे।

MP Transfer : उच्च शिक्षा विभाग ने दो प्राचार्यों के तबादले किये, देखें आदेश

बता दें कि कल ही रामनगर गोलीकांड का फैसला आया है जिसमें 49 आरोपियों को कोर्ट ने 7-7 साल की सजा सुनाई है। इनमें ज्यादातर भाजपा नेता हैं। फैसले के बाद कोर्ट ने सभी दोषियों को जेल भेज दिया, लेकिन प्रकरण में मुख्य दोषी भाजपा नेता अरुण द्विवेदी मेडिकल ग्राउंड के आधार पर जेल ना जाकर जिला अस्पताल में भर्ती हो गए। उन्हीं से मिलने के लिए मंत्री रामखेलावन पटेल आज सतना जिला अस्पताल आए थे। बात इतनी ही नहीं है, मंत्री जी सभी सजायाफ्ता कैदियों से मिलने के लिए सेंट्रल जेल भी गए थे। इस मुलाकात का वीडियो सामने आने के बाद सतना की सियासत में उबाल आ गया है। हालांकि बाद में उन्होने कहा कि जिला अस्पताल के नवीनीकरण के बाद वो वहां स्थिति को देखने आए थे।

ये मामला 20 साल पहले 30 अगस्त 2002 का है। उस समय रामनगर निवासी महेश कोल ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। लेकिन 3 दिन तक शव का पोस्टमार्टम नहीं हुआ था। इससे नाराज ग्रामीणों ने सतना जिले में थाने का घेराव किया। वहां आगजनी की, वाहनों में तोड़फोड़ और गोलीबारी भी हुई। इस दौरान इसमें तीन ग्रामीणों की मौत हो गई थी और 12 लोग घायल हुए थे। इस मामले में अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश अजीत कुमार तिर्की ने 211 पेज में फैसला लिखा और फैसले के मुताबिक चार महिलाओं सहित 48 आरोपियों को दोषी करार दिया है। सभी को सात साल की सजा और चार चार हजार का जुर्माना लगाया गया है।