ऑपरेशन के बाद महिला की मौत के मामले में डॉक्टरों की चार सदस्यीय समिति ने दिया फैसला, पंजीयन निरस्त की सिफारिश

जनवरी माह में प्राइवेट नर्सिंग होम सिटी केयर (Private Nursing Home City Care) में ऑपरेशन (operation) के बाद एक महिला सावित्री बाई प्रजापति की मौत को लेकर काफी हंगामा हुआ था। मामले में डाक्टरों की चार सदस्यीय समिति जांच कर रही थी। जिसमें महिला की मौत का जिम्मेदार ऑपरेशन करने वाले डॉक्टर और अस्पताल प्रबंधन को माना गया है।

सीहोर, अनुराग शर्मा। जनवरी माह में प्राइवेट नर्सिंग होम सिटी केयर (Private Nursing Home City Care) में ऑपरेशन (operation) के बाद एक महिला सावित्री बाई प्रजापति की मौत को लेकर काफी हंगामा हुआ था। और परिजनों ने कलेक्टर से शिकायत की थी कि डाक्टरों और अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही के चलते महिला की मौत हुई है। मामले में चार डाक्टरों की चार सदस्यीय समिति जांच कर रही थी। सूत्रों कि माने तो इस प्रकरण में समिति ने जांच उपरांत अपना जांच प्रतिवेदन सीएमएचओ (CMHO) को प्रस्तुत कर दिया है। जिसमें महिला की मौत का जिम्मेदार ऑपरेशन करने वाले डॉक्टर और अस्पताल प्रबंधन को माना गया है। समिति ने मामले में प्राइवेट नर्सिंग होम सिटी केयर का लाईसेंस निरस्त करने और दोषी डाक्टरों पर कार्रवाई करने की अनुशंसा भी की है।

यह भी पढ़ें…Coronavirus: MP में कोरोना ने पकड़ी रफ्तार, इन जिलों में हालात गंभीर, लग सकता है नाइट कर्फ्यू

समिति ने दिया अपना अभिमत
बता दें कि ,जांच समिति में डीएचओ प्रदीप मोजिस अध्यक्ष हैं और स्त्री रोग विशेषज्ञ अमिता श्रीवास्तव, डॉ अनुराग शर्मा, डॉ प्रशांत श्रीवास्तव मौजूद थे। जिन्होंने प्रतिवेदन में अपना अभिमत देते हुए कहा है कि सावित्रीबाई पति राजकुमार की मौत अस्पताल प्रबंधक डॉ हितेष शर्मा, डॉ राधिका पाठक शर्मा एवं डॉ कृष्ण कुमार के द्वारा पोस्ट ऑपरेटिव केयर (Postoperative care) में गंभीर लापरवाही करने के कारण हुई है। महिला की मृत्यु का कारण हैमरेज एवं शाक है। मरीज को ऑपरेशन के बाद किसी भी तरह की पोस्ट ऑपरेटिव केयर नहीं मिली थी। समिति ने ऑप्रेशन करने वाले डॉक्टर कृष्ण कुमार आईएमसी एक्ट 1956 के तहत अनुशासनात्मक कार्यवाही करने की अनुशंसा की है।

सिटी केयर अस्पताल जब से खुला है तब से विवादों में बना हुआ है। इसका वजह ये है कि यहां मरीजों से मनमानी फीस वसूली जाती है और लापरवाही बरतना यहां आम हो गया है। बता दें कि अब तक अस्पताल में 20 से ज्यादा लोगों की मृत्यु हो चुकी है।

यह भी पढ़ें…Indore News: मास्क नहीं लगाने पर प्रशासन की सख्ती, एक हजार लोगों पर कार्रवाई