पेट्रोल पंप मैनेजर ने किया 16 लाख का गबन, धोखाधड़ी का मामला दर्ज

सीहोर, अनुराग शर्मा। राजनीतिक दलों की आड़ में गैरकानूनी काम करना कोई नई बात नहीं, सीहोर में भी एक ऐसा ही मामला सामने आया है और ये एक प्रतिष्ठित परिवार और राजनीति में रसूख रखने वाले दलबदलू नेता से जुड़ा हुआ है इसलिए अब यह मामला सुर्खियों में बना हुआ है। पार्वती पुलिस से प्राप्त जानकारी अनुसार फरियादी राकेश कुमार की शिकायत पर आष्टा निवासी पुनीत संचेती पर 16 लाख के गबन के मामले में धारा 420,408 के तहत धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है। आरोपी पहले कांग्रेस पार्टी और फिलहाल बीजेपी से संबद्ध बताया जा रहा है।

BRIBE: 1 लाख की रिश्वत लेते महिला पटवारी रंगहाथों गिरफ्तार, टीम को देख फेंके पैसे

पेट्रोल पंप मैनेजर ने किया 16 लाख का गबन, धोखाधड़ी का मामला दर्ज

ये है पूरा मामला
13 जून 2021 को पार्वती थाने में भोपाल निवासी राकेश चुग ने एक शिकायती आवेदन दिया था जिसमें ने बताया था कि पुनीत संचेती  ने धोखाधड़ी से डीजल पेट्रोल बिक्री के 16 लाख रुपये गबन किये हैं। शिकायत की जांच के दौरान पाया गया कि आवेदक राकेश चुग  द्वारा एचपीसीएल पेट्रोल पम्प पर पुनीत संचेती को प्रबंधक के पद पर रखा गया था। उनपर प्रति दिन की पेट्रोल-डीजल बिक्री की राशि बैंक में जमा करने की जिम्मेदारी थी लेकिन आरोप है कि पुनीत संचेती द्वारा बैंक में रुपये जमा न करते हुये उनका गबन कर लिया गया। रजिस्टर में दर्ज एंट्री के आधार पर पुनीत संचेती द्वारा वर्ष 2018 में 16 लाख रुपये का  गबन पाया गया है। इस दौरान पुनीत संचेती के द्वारा 7 दिसम्बर 2018 को 12 लाख 32,998 रुपये का गबन स्वीकार करना भी पाया गया। पुलिस ने अब शिकायत के आधार पर आरोपी के खिलाफ धारा 408,420 भादवि का अपराध पंजीबद्ध किया है।

16 लाख के गबन के मामले में आरोपी बने पुनीत संचेती अपने कारनामों से पहले भी सुर्खियां बटोर चुके हैं। मई 2020 में पुनीत पर आष्टा थाने में एफआईआर दर्ज हुई थी और उनपर मुक्तिधाम में बनी दुकान पर आपसी रंजिश के चलते आधी रात को जेसीबी मशीन से तोड़ने का आरोप था। इस दौरान पास ही दुकान पर लगे सीसीटीवी कैमरे में पुनीत का यह कारनामा कैद हो गया।

16 लाख के गबन के आरोपी से भाजपा-कांग्रेस दोनों ने पल्ला झाड़ा

बता दें कि गबन के आरोपी पुनीत संचेती सालों से कांग्रेस पार्टी के समर्थक माने जाते रहे हैं और स्थानीय कांग्रेस नेताओं से लेकर कई बड़े नेताओं के साथ भी उन्हें आसानी से देखा जाता था। वही पिछले दिनों भाजपा की सदस्यता अभियान के तहत स्थानीय भाजपा नेता विशाल चौरासिया के फेसबुक एकाउंट से जारी की गई एक पोस्ट के मुताबिक पुनीत संचेती ने भाजपा की आजीवन सदस्यता निधि की 10 हजार रुपये की रसीद बनवाई थी, जिसमे भाजपा नगर मंडल अध्यक्ष अतुल शर्मा और युवा अध्यक्ष नितिन सोनी संचेती परिवार के साथ खड़े दिखाई दे रहे हैं। इसके बाद से पुनीत भाजपा नेताओं के साथ भी कुछ कार्यक्रमों में देखे गए थे। लेकिन अब उनके द्वारा गबन का मामला सामने आने पर दोनों ही दल उनसे पल्ला झाड़ रहे है।

इस मामले में कांग्रेस जिलाध्यक्ष डॉक्टर बलवीर तोमर ने  चुटकी लेते हुए कहा कि पुनीत से कांग्रेस का कोई संबंध नहीं है। जब वो भाजपा को आर्थिक सहयोग कर रहे तो फिर सब स्पष्ट है यह तो भाजपा की संस्कृति और गुणों का असर है। वहीं इस पूरे मामले पर भाजपा नगर मंडल अध्यक्ष अतुल शर्मा ने साफ तौर पर पुनीत से किसी भी तरह के नाते को नकार दिया और कहा कि सबको बता है कि वो कांग्रेसी व्यक्ति है, कांग्रेस की मानसिकता है और वर्षो से कांग्रेस से जुड़ा हुआ है।