अपने बच्चे के प्रति बंदरिया की संवेदनाएं देख ….हर किसी की आंख हो गई नम

सीहोर।

जिले में एक बंदर और उसके बच्चे की ममता का अनोखा मामला देखने में आया। अपने बच्चे के इलाज की अपेक्षा लेकर ये मूक जानवर अस्पताल जा पहुंची। शहर की पुरानी जेल की दीवार के पास से विद्युत की 11 केवी की लाइन गुजरती है।इस लाइन की जड़ से लगे पेड़ो के झुरमुट पर मस्ती कर रहे लाल मुंह के बंदरो के एक समूह के साथ एक हादसा घटित हो गया ।

दरअसल, यहां बंदर का एक बच्चा झूलती डाल से इस लाइन की चपेट  में आया और तत्काल झुलस कर नीचे जमीन पर गिर गया । तत्काल इस बच्चे की मां ने व्यथित होकर इस बच्चे के झुलसे शव को लेकर घटना स्थल से कुछ ही दूरी पर मौजूद जिला चिकित्सालय में ले आई।यह बेजुबान ने गजब की संवेदना दिखाई और गोदी में भरे अपने बच्चे को लेकर जिला पशु चिकित्सालय के मुख्य द्वार पर बैठकर कातर निगाहों से हर आने जाने वाले को अपनी मूक भाषा में कहती रही की कोई इसका इलाज करो ।इसके प्राण बचाओ। इस बीच यह व्यथित बंदरिया हर पास आने वाले को गुस्सा भी दिखाती रही ।

जिला पशु अस्पताल का पूरा स्टाफ ने  जानवरों की इंसानियत का एक ऐसा दिलचस्प किस्सा अपनी आँखों के सामने घटित होते देखकर अपनी आँखों से आँसू की बुँदे नही रोक पाया ।जैसे तैसे वरिष्ठ चिकित्सको ने इस बच्चे के शव का परिक्षण किया तो पाया की झुलसा हुया बंदरिया का बच्चा मर चुका है।इसके बाद फिर बंदरिया अपने मृत  बच्चे को लेकर अपने समूह में चली गई ।इस घटना को देखने वाले लोगों की आंखे भी आंसुओं से भर गई।