केंद्रीय मंत्री का तंज- मोदी की देशहित की नीतियों के कारण सारे भ्रष्ट नेता एक मंच आने की पर कर रहे कोशिश

Sehore News : सीहोर जिले के चुनाव प्रभार की कमान मिलने के बाद आज केंद्रीय मंत्री नरेंद सिंह तोमर भाजपा कार्यकर्ताओं से रायशुमारी करने रिसोर्ट पहुंचे। यहां मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि मोदी की भष्टाचार विरोधी नीतियों के परिणाम अब सामने आने लगे हैं, तमाम भ्रष्ट नेता अब एक मंच पर आने की कोशिश कर रहे हैं। मोदी जी का विकास का रथ निरन्तर आगे बढ़ रहा है और इसको रोकने की क्षमता भ्रष्ट नेताओं में नहीं है।

देश की साख दुनिया के राजनीतिक मंच पर दिख रही है : तोमर 

केंद्रीय कृषि मंत्री ने विश्व में भारत की साख बढ़ने पर कहा कि देश की साख दुनिया के राजनीतिक मंच पर दिखाई देने लगी है भारत मोदी के नेतृत्व में विश्व कल्याण की दिशा में आगे बढ़ रहा है, हमारी अर्थव्यवस्था पूरी दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था है।

जांच एजेंसियों को मिल रहा भ्रष्टाचार इसलिए नेता परेशान 

विरोधियों द्वारा बार बार सरकारी जाच एजेंसी के दुरुपयोग पर केंद्रीय मंत्री तोमर ने कहा कि देश की एजेंसियां स्वतंत्र रूप से कार्य कर रही है और उसके परिणाम देखने को भी मिल रहे हैं और दुरुपयोग की बात तो तब होगी जब एजेंसी जांच के लिए जाए  और कुछ न मिले, अभी तो जांच एजेंसी जहां भी जांच के लिए जा रही है वहां भ्रष्टाचार मिल रहा है इसलिए सब परेशान हैं और एक मंच पर आने की कोशिश में लगे हैं।

मप्र में भाजपा को जनता का आशीर्वाद, 2023 में फिर बनेगी सरकार 

नरेंद्र सिंह तोमर ने कांग्रेस के संगठन के सवाल पर कहा कि कांग्रेस का संगठन से कोई लेना देना नहीं है पहले भी नहीं था आज भी नहीं हैं, और भाजपा का संगठन मध्य प्रदेश में काम कर रहा है और शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में सरकार काम कर रही है उसका असर जनता में दिख रहा है , भाजपा को जनता का आशीर्वाद प्राप्त है इसलिए 2023 में भाजपा सरकार बनाने में सफल होगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के लोग उथली राजनीति करते हैं उन्होंने कहा कि राहुल गांधी का मामला कोर्ट से सम्बंधित है, राहुल गांधी ने जो भाषा बोली उसके कारण मुकदमा चला, सुनवाई के बाद सजा हुई, ये सजा भाजपा ने नहीं कोर्ट ने दी, निर्णय न्यायालय ने दिया थोप भाजपा पर रहे हैं।

सीहोर से अनुराग शर्मा की रिपोर्ट 


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News