प्रशासन की मुस्तैदी से बालिका बधू बनने से बची 12 साल की मासूम

शिवपुरी, शिवम पाण्डेय। बामोरकलां थाना प्रभारी नीरज राणा और महिला बाल विकास के परियोजना अधिकारी अमित यादव ने प्रशासन के साथ मिलकर एक छात्रा को बालिका वधू बनने से बचा लिया। अमित यादव, परियोजना अधिकारी, महिला एवं बाल विकास विभाग खनियाधाना के ग्राम निबोदा पहुंचे, उन्हे सूचना मिली की एक नाबालिग की शादी की जा रही है, टीम जब मौके पर दल-बल के साथ जा पहुंची, तो सूचना को सही पाया,जिसके बाद इस शादी को रुकवाया गया,  वही इस मामले में आरोपियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। बताया जा रहा है कि ग्राम निबोदा में प्रशासन ने एक छात्रा को बालिका वधू बनने से बचा लिया। प्रशासन की टीम ने बाल विवाह रूकवाया। आरोपी जबरन इस नाबालिग का विवाह कर रहे थे। इस मामले में पुलिस ने आरोपी पिता सहित परिवार जनों के खिलाफ मामला दर्ज कर नाबालिग को वन स्टॉफ सेंटर भेज दिया है।

RSS के स्वर साधक संगम का समापन, बोले संघ प्रमुख भागवत – संगीत मन को शांति देने वाली कला

ग्राम निबोंदा में  एक 12 वर्षीय नाबालिग का उससे उम्र में 10 साल बड़े युवक के साथ विवाह रचाया जा रहा था। मामले की जानकारी पत्रकार  नीरज श्रीवास्तव को लगी जहां उन्होंने तत्काल सक्रियता दिखाते हुए इस विवाह को रुकवाया और एक नाबालिक को बालिका बधू बनने से बचा लिया। जानकारी के अनुसार बामौरकला क्षेत्र के ग्राम निबोदा में बाल्मीक समाज में एक 11 वर्षीय नाबालिग का विवाह रचाया जा रहा था। प्रशासन जब मामले की जानकारी मिली तो उन्होंने सक्रियता दिखाते हुए मामले की जानकारी एसपी शिवपुरी राजेशसिंह चंदेल को दी। यहां एसपी ने तत्काल एक्शन लेते हुए मौके पर बामौरकला पुलिस को भेजा वहीं बाल कल्याण समिति की सदस्य सुनंदा शर्मा ने भी तत्काल मामले में एक्शन लिया। जहां नाबालिग का विवाह हो रहा था वहां पुलिस पहुंची और उसके विवाह को रुकवाया। पुलिस ने बताया कि नाबालिग की शादी उससे उम्र में 10 साल बड़े युवक के साथ करवाई जा रही थी। मामले में पुलिस ने बंटी बाल्मीक, हीरा बाल्मीक, प्रभू बाल्मीक के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है वहीं नाबालिग को शिवपुरी सेंटर भेज दिया है।