शिवपुरी चारा घोटाला: सरपंच और सचिव पर आरोप, बिना गौशाला बनाए डकारा लाखों का चारा, जिला पंचायत CEO के आदेश को दिखाया ठेंगा

Shivpuri News : शिवपुरी जिले के पिछोर तहसील में चारा घोटाले का मामला गरमाया हुआ है। दरअसल, ग्राम पंचायत भड़ौरा के सरपंच सचिव पर आरोप है कि उन्होंने चारा घोटाला करके लाखों रुपए की राशि को डकार लिया है। ग्रामीणों ने इसकी शिकायत मध्य प्रदेश के खेल एवं युवा कल्याण तकनीकी शिक्षा कौशल विकास एवं रोजगार मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया से जाकर की थी।

मंत्री ने मामले में जिला पंचायत सीईओ को जांच कराने को निर्देशित किया था। इसके बाद, जिला पंचायत सीईओ ने मामले में 2 सदस्य जांच कमेटी का भी गठन किया था लेकिन अधिकारियों द्वारा सीईओ के उस आदेश को नजरअंदाज कर दिया और जांच प्रतिवेदन को ठंडे बस्ते में डाल दिया।

शिवपुरी चारा घोटाला: सरपंच और सचिव पर आरोप, बिना गौशाला बनाए डकारा लाखों का चारा, जिला पंचायत CEO के आदेश को दिखाया ठेंगा

गौरतलब है कि मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया द्वारा मामले में इंटरफेयर करने के बाद जिला पंचायत सीईओ ने एक जांच टीम का गठन किया था। जिला पंचायत सीईओ ने जांच टीम में पिछोर के तत्कालीन सीईओ पुष्पेंद्र ब्यास व वरिष्ठ डाटामैनेजर महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी स्कीम के मनोज नामदेव को जांच करके 10 मार्च को जांच प्रतिवेदन सौंपने का आदेश दिया था।

आदेश को जांच कमेटी ने किया दरकिनार

जिला पंचायत सीईओ के आदेश को जांच टीम ने दरकिनार कर दिया चारा घोटाले में 10 मार्च तक जिला पंचायत में जांच प्रतिवेदन सौंपने के जिला पंचायत के सीईओ ने आदेश दिए थे लेकिन जांच कमेटी ने इस आदेश को दरकिनार करते हुए आज दिनांक तक जिला पंचायत को मामले की जांच रिपोर्ट नहीं सौंपी।

शिकायतकर्ता ने जांच कमेटी पर उठाए सवाल

इस मामले पर शिकायतकर्ता राघवेंद्र यादव व ग्रामीणों ने बताया कि जांच को इसलिए ठंडे बस्ते में डाल दिया क्योंकि चारा घोटाले में जांच कमेटी ने भी चारा खाया होगा। शिकायतकर्ता राघवेंद्र यादव की मांग है कि इसमें जिला स्तरीय जांच टीम बनाकर मामले की जांच कराई जाए और अगर कार्रवाई नहीं होती है तो इसकी शिकायत भोपाल जाकर यशोधरा राजे सिंधिया से करेंगे।

बता दें कि ग्राम पंचायत के सदस्यों को पशुओं की देखभाल करने और उनके लिए गोशाला बनाने की जिम्मेदारी होती है। इस तरह के अपराधों को नहीं छोड़ा जा सकता है और उन लोगों को सख्त से सख्त सजा दी जानी चाहिए जो इस प्रकार के अपराधों को करते हैं।

शिवपुरी से आशीष पांडे की रिपोर्ट


About Author
Sanjucta Pandit

Sanjucta Pandit

मैं संयुक्ता पंडित वर्ष 2022 से MP Breaking में बतौर सीनियर कंटेंट राइटर काम कर रही हूँ। डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन और बीए की पढ़ाई करने के बाद से ही मुझे पत्रकार बनना था। जिसके लिए मैं लगातार मध्य प्रदेश की ऑनलाइन वेब साइट्स लाइव इंडिया, VIP News Channel, Khabar Bharat में काम किया है।पत्रकारिता लोकतंत्र का अघोषित चौथा स्तंभ माना जाता है। जिसका मुख्य काम है लोगों की बात को सरकार तक पहुंचाना। इसलिए मैं पिछले 5 सालों से इस क्षेत्र में कार्य कर रही हुं।

Other Latest News