RTO विभाग के खिलाफ पुलिस की बड़ी कार्यवाही, 3 लोगों पर FIR

आरटीओ विभाग (RTO Department) द्वारा पुलिस अधिकारी के फर्जी हस्ताक्षर कर के लाइसेंस (License) जारी किये जाने को लेकर आरटीओ के तीन कर्मचारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

टीकमगढ़, आमिर खान। टीकमगढ़ जिले में पुलिस (police) ने बड़ी कार्यवाही को अंजाम है। जहां आरटीओ विभाग (RTO Department) द्वारा पुलिस अधिकारी के फर्जी हस्ताक्षर कर के लाइसेंस (License) जारी किये जाने को लेकर आरटीओ के तीन कर्मचारियों के खिलाफ एफआईआर (FIR) दर्ज की गई है।

यह भी पढ़ें….BYJU’S ने किया आकाश एजुकेशनल सर्विसेज का अधिग्रहण, 1 बिलियन डॉलर में तय हुआ सौदा

दरअसल आरटीओ विभाग के कर्मचारी निर्मल कुमरावत, रामलखन शर्मा, छोटे मिश्रा के खिलाफ पुलिस ने फर्जी लाइसेंस बनाने का आरोप लगाते हुए उन पर कार्यवाही की है। पुलिस का आरोप है कि आरटीओ निर्मल ने लिपिक रामलखान और दलाल छोटे मिश्रा के साथ गुटबाज़ी कर पुलिस के नकली हस्ताक्षर करके 500 लाइसेंस जारी किए हैं। जबकि पुलिस विभाग द्वारा मात्र 300 लोगों का पुलिस वेरिफिकेशन करने के बाद दस्तावेजों को पुलिस अधीक्षक कार्यालय से जारी किए गए थे। लेकिन तीनों कर्मचारियों ने सांठगांठ से 200 लाइसेंस पर पुलिस अधीक्षक के फर्जी हस्ताक्षर कर दस्तावेज तैयार कर 500 लाइसेंस जारी किए, जिसके बाद उक्त मामले में आज देहात थाना पुलिस द्वारा आरटीओ निर्मल कुमरावत, राम लखन शर्मा सहित एक दलाल छोटू मिश्रा के खिलाफ धारा 420, 467, 471 आईपीसी के तहत मामला दर्ज कर छापामार कार्यवाही की गई जिनके पास से भारी मात्रा में फर्जी दस्तावेज भी जब्त किए गए।

पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि आरटीओ विभाग द्वारा जो हैवी लाइसेंस जारी किए गए थे, जिसमें पुलिस वेरिफिकेशन पुलिस अधीक्षक कार्यालय से होता है। जिसमें आरोपी द्वारा कुछ मामलों में फर्जी तरीके से हस्ताक्षर कर लाइसेंस को जारी किया गया। जिसके तहत 3 लोगों पर मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने आगे कहा कि हमने करीब 300 हैवी लाइसेंस की मंजूरी दी थी, लेकिन आरोपियों द्वारा करीब 500 से ऊपर लाइसेंस जारी किए गए जिसमें से हमने 10 10 फर्जी लाइसेंस हमें मिल गए हैं जिनमें आरोपियों द्वारा फर्जीवाड़ा किया गया था ।

यह भी पढ़ें….Singrauli में अमृत योजना के लाभ से वंचित लोग गंदा पानी पीने के लिए मजबूर