सीएम शिवराज का बड़ा तंज – MP बचा नहीं पाएं अब महाराष्ट्र बचाने निकले कमलनाथ, कांग्रेसियों पर जमकर साधा निशाना

बीजेपी और कांग्रेस के बीच अंतर स्पष्ट करते हुए सीएम शिवराज ने आगे कहा है कि यह देखो अंतर भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस में, हमने तय किया यह कोई नियम नहीं है कि, विधायक मेयर नहीं बन सकता।

उज्जैन, डेस्क रिपोर्ट। महाराष्ट्र में जारी सियासी उठापटक के बीच कमलनाथ को पर्यवेक्षक नियुक्त करने पर सीएम शिवराज (cm shivraj) ने बड़ा तंज कसा है। उज्जैन में सीएम शिवराज ने कहा कि जो अपनी खुद की मध्य प्रदेश की सरकार को नहीं बचा पाए, अब वह महाराष्ट्र की सरकार को बचाने निकले हैं।

यह भी पढ़े…सीएम शिवराज का बड़ा तंज – MP बचा नहीं पाएं अब महाराष्ट्र बचाने निकले कमलनाथ, कांग्रेसियों पर जमकर साधा निशाना

इतना ही नहीं सीएम शिवराज ने कहा कि अजब गजब कांग्रेस के अजब गजब किस्से नजर आ रहे हैं। कांग्रेस पर तंज कसते हुए सीएम शिवराज ने कहा कि कांग्रेस कभी आप का भला नहीं कर सकते। जो खुद अंतिम सांसे गिन रहे हो वह दूसरे का क्या भला करेंगे।

यह भी पढ़े…नगर सरकार के घमासान की तस्वीर हुई साफ, अब मैदान मे ये योद्धा

कांग्रेस और कांग्रेसियों पर कटाक्ष करते हुए सीएम शिवराज ने कहा कि धन अधिपति के सामने समाजसेवी वर्ग के लोग खड़े हैं। मैं समाजसेवी जमीन से जुड़ा हुआ खुद गरीब घर में पैदा हुआ और सामने कौन है कमलनाथ…!

अब ये कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष यहां नहीं आएंगे तो, क्या करेंगे वहां काम ही नहीं है कुछ.. कोई कार्यकर्ता का काम है क्या..?? आगे बोलते सीएम शिवराज ने कहा कि कांग्रेस में कार्यकर्ता का काम ही नहीं है। चुनाव कौन लड़ेगा विधायक जी चुनाव लड़ेंगे। मध्यप्रदेश नगरीय निकाय पंचायत चुनाव में उम्मीदवारी पर कांग्रेस की शैली पर सीएम शिवराज ने सवाल खड़े किए हैं उन्होंने कहा है कि कांग्रेस ने यहां भी विधायक, इंदौर में भी विधायक, सतना में भी विधायक, तो तुम्हारे बाकी के कार्यकर्ता भाड़ झोंकेंगे कमलनाथ…!

यह भी पढ़े…Gwalior जिला प्रशासन की अभिनव पहल, चुनावों में NCC कैडेट निभाएंगे विशेष पुलिस अधिकारी की भूमिका

बीजेपी और कांग्रेस के बीच अंतर स्पष्ट करते हुए सीएम शिवराज ने आगे कहा है कि यह देखो अंतर भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस में, हमने तय किया यह कोई नियम नहीं है कि, विधायक मेयर नहीं बन सकता।

सीएम शिवराज ने कहा है कि विधायक स्वाभाविक उम्मीदवार के रूप में हमारे पास थे लेकिन हमने तय किया जो विधायक हैं वो मेयर का चुनाव नहीं लड़ेंगे। एक व्यक्ति, एक पद हम नए कार्यकर्ताओं को मौका देंगे।