दुर्गा पंडाल में पूजा करने पहुंची महिला ने अपनी जीभ काटकर माता को भेंट की

नवरात्रि का पावन पर्व चल रहा है, ऐसे में चारों तरफ देवी के पंडाल सजे हुए हैं और लोग देवी की भक्ति में लीन हैं। वही दमोह से महज 20 किलोमीटर दूर हिंडोरिया में एक महिला भक्ति में इतनी लीन हुई कि उसने अपनी जीप काटकर देवी जी को चढ़ा दी।

दमोह, गणेश अग्रवाल। नवरात्रि का पावन पर्व चल रहा है, ऐसे में चारों तरफ देवी के पंडाल सजे हुए हैं और लोग देवी की भक्ति में लीन हैं। वही दमोह से महज 17 किलो मीटर दूर हिंडोरिया में एक महिला ने परिवार की खुशी की बात बताते हुए अपनी जीभ काटकर देवी जी को चढ़ा दी। घटना के बाद यहां पर भक्तों का मेला लग गया है साथ ही लोग इस महिला की भक्ति को देखकर आश्चर्यचकित है। इसे आस्था कहा जाएगा या अंधविश्वास यह सवाल खड़ा होता है।

दमोह जिले के कस्बाई इलाके हिंडोरिया में एक महिला माता रानी की भक्ति में इतने लीन हुई कि जब वह रात में माता रानी के पंडाल पूजा कर रही थी तभी उसने अपनी जीभ काटकर माता रानी को चढ़ा दी। यह बात पता चलने के बाद इलाके में लोगों की भीड़ जमा हो गई और लोगों ने महिला की भक्ति के चर्चे गाने शुरू कर दिए। दरअसल महिला का नाम संगीता बाई बताया जा रहा है जो हिंडोरिया निवासी है। इस महिला ने बताया कि उसने अपने परिवार की भलाई के लिए बच्चों की खुशी के लिए अपनी जीभ माता को अर्पण की है। इतना ही नहीं महिला द्वारा निकाले जाने के बाद उसे एक पान के पत्ते में रखते हुए देवी मां की प्रतिमा के सामने रख दिया गया। महिला ने पूर्व में माता के दरबार में मन्नत मांगी थी जो पूरी हुई जिसके चलते हैं इस महिला ने इतना बड़ा फैसला लिया और अपनी जी माता को भेंट कर दी।

कई बार ऐसी खबर सामने आती है जो दिल को झकझोर देती है। भले ही बात यहां आस्था ही हो पर अब यह महिला दोबारा ठीक से नहीं बोल पाएगी, लेकिन महिला को इस बात का बिल्कुल भी दुख नहीं है। उसे तो खुशी है कि उसकी मनोकामना पूरी हुई है और उसका परिवार पूरा हुआ। जिस कारण से महिला ने इतना बड़ा फैसला लिया और इस भेंट के माध्यम से अपनी खुशी का इजहार किया है।