खुशखबरी : लाखों शिक्षकों-कर्मचारियों को बड़ा तोहफा, मिलेगा प्रमोशन का लाभ, आदेश जारी

वही शिक्षकों की संख्या आरटीई के मुताबिक तय होगी । दूसरे शब्दों में कहे तो स्कूल के छात्रों की संख्या के अनुसार ही शिक्षकों की संख्या तय होगी। 

Teacher Promotion 2023: उत्तर प्रदेश के प्राइमरी स्कूल के शिक्षकों, प्रिंसिपल और कर्मचारियों के लिए खुशखबरी है । नए साल से पहले राज्य सरकार ने बड़ा तोहफा दिया है। 2023 में प्राइमरी स्कूल के प्रिंसिपल और टीचरों को पदोन्नति का लाभ मिलेगा ।इस संबंध में बेसिक शिक्षा विभाग के विशेष सचिव अवधेश कुमार तिवारी ने आदेश जारी कर दिए गए हैं।

उत्तर प्रदेश के प्राथमिक विद्यालयों में 3.67 लाख शिक्षक और 70 हजार प्रिंसिपल हैं, जिन्हें पदोन्नति का लाभ मिलेगा। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इसके लिए शिक्षा विभाग द्वारा अब हर जिले के स्कूलों के प्रिंसिपल व जूनियर स्कूलों में शिक्षकों की रिक्तियों को ब्योरा जुटाया जा रहा है। वही कुछ जिलों में प्राइमरी व जूनियर स्कूलों को संविलियन कर दिया गया है, ऐसे प्रिसिंपलों के नए पदों की गिनती की जा रही है, ताकी प्रमोशन का लाभ दिया जा सके।

वही शिक्षकों की संख्या आरटीई के मुताबिक तय होगी । दूसरे शब्दों में कहे तो स्कूल के छात्रों की संख्या के अनुसार ही शिक्षकों की संख्या तय होगी।  इसके अलावा जूनियर स्कूल के शिक्षकों की पदोन्नति के लिए अहम निर्णय लिया गया है, इसके लिए हाईकोर्ट में मजबूती से पैरवी की जाएगी ताकि उनके प्रमोशन का भी रास्ता साफ हो सके। इस फैसले के बाद प्रदेश के 3 लाख से ज्यादा शिक्षकों को फायदा होगा।

बता दे कि साल 2013 में 29334 गणित व साइंस के टीचर्स की जूनियर स्कूल में भर्ती की गई थी। नियम के तहत, शिक्षकों को सेवाकाल के 3 साल पूरे होने के बाद पदोन्नति दी जाती है, इसके लिए बेसिक शिक्षा विभाग में हर कर्मचारी के लिए मानक तय किए जाते हैं, इन्ही मानकों के आधार पर नंबर दिए जाते हैं और इसी आधार पर पदोन्नति होती है। प्राइमरी शिक्षकों की प्रोन्‍नति स्‍कूलों के प्रधानाध्‍यापकों और जूनियर स्‍कूल के शिक्षकों के पद पर और जूनियर स्‍कूलों के शिक्षकों को जूनियर स्‍कूल के प्रधानाध्‍यापक के पद पर होती है।