हजारों कर्मचारियों-पेंशनरों के लिए नई अपडेट, जल्द मिल सकता है छठे वेतनमान का लाभ

निगम कर्मचारियों के अल्टीमेटम के बाद सरकार जल्द छठे वेतन आयोग की सिफारिशें लागू कर सकती है।

EMPLOYEES-pensioners

6th Pay Commission. हिमाचल पथ परिवहन निगम ( HRTC Employees and Pensioners) के कर्मचारियों और पेंशनरों के लिए अच्छी खबर निकलकर आ रही है। हिमाचल प्रदेश की जयराम ठाकु सरकार जल्द 12000 कर्मचारियों और 6500 पेंशनरों को बड़ी राहत दे सकती है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो निगम कर्मचारियों के अल्टीमेटम के बाद सरकार जल्द छठे वेतन आयोग की सिफारिशें लागू कर सकती है।हालांकि अभी तक सरकार की तरफ से कोई पुष्टी नहीं की गई है, लेकिन पिछली बैठक में आश्वासन जरूर दिया गया था।

यह भी पढ़े.. MP News: लापरवाही पर शिक्षक-टीआई समेत 5 अधिकारी निलंबित, 4 को नोटिस, वेतन वृद्धि रोकी

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार,  इस संबंध में शनिवार को वित्त सचिव, परिवहन सचिव और प्रबंध निदेशक एचआरटीसी के बीच एक बड़ी बैठक हुई है, जिसका फैसला आना बाकी है। इधर, परिवहन मजदूर महासंघ ने सरकार को 21 दिन का अल्टीमेटम दिया है और चेतावनी (Warning) भी दी है कि अगर उनकी मांगें नही मानी गई, तो शिमला में महाधरना और आंदोलन किया जाएगा।अब अंतिम फैसला सर्विस कमेटी को लेना है।

हिमाचल परिवहन कर्मचारी संयुक्त समन्वय समिति का कहना है कि 7 अप्रैल को परिवहन कर्मचारी संयुक्त समन्वय समिति की प्रबंध निदेशक के साथ बैठक हुई थी, जिसमें प्रबंध निदेशक ने माना था कि जल्द ही परिवहन निगम के कर्मचारियों को छठे वेतन आयोग की सिफारिशें लागू कर दी जाएगी ।इधर राज्य सरकार के विभागों के कर्मचारियों को छठे वेतन आयोग की सिफारिशों को जनवरी महीने से लागू कर दिया गया है, लेकिन एचआरटीसी के कर्मचारियों को लेकर अबतक कोई फैसला नहीं लिया गया है,जिसके चलते नाराजगी बढ़ती ही जा रही है।

यह भी पढ़े… MPPEB: पुलिस कांस्टेबल भर्ती पर नई अपडेट, फिजिकल टेस्ट के एडमिट कार्ड जारी, 4000 पदों पर होगी भर्ती

बता दे कि अभी तक हिमाचल प्रदेश सरकार के विभागों के कर्मचारियों को नए वेतन आयोग की सिफारिशें लागू होते ही एचआरटीसी के कर्मचारियों को भी यह लाभ दे दिया जाता था, लेकिन अबतक इस पर फैसला नहीं हुआ है, समिति ने सरकार व निगम प्रबंधन से मांग की है कि जल्द से जल्द एचआरटीसी कर्मचारियों को छठे वेतन आयोग के लाभ के साथ-साथ अन्य लंबित वित्तीय लाभ सेवारत एवं सेवानिवृत्त कर्मचारियों को पूरा किया जाए, नहीं तो कर्मचारी आंदोलन करेंगे।