दिल्ली में 3 दिन में तीन गुना हुए Corona मरीज, अरविंद केजरीवाल ने कही ये बड़ी बात

दिल्ली में अभी एक्टिव केस की संख्या 6360 है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। दिल्ली में कोरोना (Corona IN Delhi) बहुत तेजी से बढ़ रहा है। पिछले तीन दिनों में ही कोरोना मरीजों की संख्या तीन गुना हो गई है लेकिन मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने दिल्लीवासियों से कहा है कि आपको घबराने की जरूरत नहीं है। कोरोना बहुत माइल्ड है ज्यादातर लोग घर में ठीक हो रहे हैं अस्पताल जाने या पैनिक होने की जरूरत नहीं है।

मुख्यमंत्री अरविंद केजीरवाल आज रविवार को फिर जनता के सामने ऑनलाइन आये।  उन्होंने कोरोना के हालात की जानकारी दी।  केजरीवाल ने बताया कि दिल्ली में कोरोना रोज छलांग मार रहा है।  आंकड़े लेकर बैठे अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कोरोना के केस रोज बढ़ रहे हैं लेकिन आपको घबराने या पैनिक होने की जरूरत नहीं है सभी को अपनी जिम्मेदारियां निभानी हैं।

ये भी पढ़ें – MPPSC : इन पदों पर निकली है भर्ती, 23 जनवरी लास्ट डेट, जानिए आयु और पात्रता

उन्होंने पिछले कुछ दिनों के आंकड़े बताते हुए कहा कि 29 दिसंबर को केवल 923 केस थे, 30 को अचानक बढ़कर 1313 हो गए, 31 दिसंबर को 1796 केस आये और 01 जनवरी को 2796 नए मरीज सामने आये।  उन्होंने कहा कि रोज 2500 से 3000 नए केस दिल्ली में सामने आ रहे हैं।

ये भी पढें – MP Weather: फिर बदलेगा मप्र का मौसम, 3 दिन बाद बारिश-ओलावृष्टि के आसार, जानें अपने शहर का हाल 

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बताया कि तीन दिन पहले 29 दिसंबर को दिल्ली में एक्टिव केस 2191 थे जो तीन दिन बाद बढ़कर तीन गुना 6360 हो गए।  लेकिन अच्छी बात ये है कि दिल्ली के अस्पतालों के बेड मरीजों की तुलना में बहुत खाली हैं। उन्होंने बताया कि 29 दिसंबर को केवल 262 मरीज अस्पताल में भर्ती थे और तीन दिन बाद 01 जनवरी को मरीजों की संख्या घटकर 247 हो गई।

ये भी पढ़ें – कुत्तों के हमले से घायल बच्ची के मामले में मानव अधिकार आयोग सख्त, प्रशासन से मांगा जवाब

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि इस बार कोरोना बहुत माइल्ड है। ज्यादातर मरीजों को अस्पताल जाने की जरूरत नहीं पड़ रही है। अभी केवल 82 ऑक्सीजन बेड पर ही मरीज हैं। मतलब साफ़ है कि इस बार मरीज को ऑक्सीजन सपोर्ट की जरूरत नहीं पड़ रही। उन्होंने कहा कि पिछले अनुभवों को देखते हुए दिल्ली सरकार ने 37,000 ऑक्सीजन बेड की तैयारी है।  अरविंद केजरीवाल ने पहली और दूसरी लहर के आंकड़ों की तुलना करते हुए अपनी सरकार की तैयारियों की जानकारी बताई।