“भारतीय सेना ने देशवासियों का सीना चौड़ा करने का काम किया है” बोले राजनाथ

सिंगरौली में अपने भाषण के दौरान राजनाथ सिंह ने न केवल प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में हुए विकास के बारे में बताया बल्कि कांग्रेस और राहुल गांधी पर भी तंज कसा।

Rajnath singh On Indian Army : रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने हाल ही में भारत चीन युद्ध भारतीय सेना के द्वारा अदम्य साहस का परिचय देने का खुलासा किया है। उन्होंने कहा है कि भारतीय सैनिकों ने जिस अदम्य वीरता का परिचय दिया है उससे हर भारतीय का सीना चौड़ा हो गया है। उन्होंने अपने भाषण के दौरान राहुल गांधी की भी जमकर आलोचना की।

भारत 2047 में विश्व की नंबर वन अर्थव्यवस्था होगा

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह रविवार को मध्य प्रदेश के सिंगरौली जिले के दौरे पर थे। इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ मंच साझा करते हुए उन्होंने कई योजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण किया। इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत के वैश्विक स्तर पर बढ़ते सम्मान की चर्चा की और बताया कि किस तरह से भारत का सम्मान पूरे विश्व के अंदर तेजी से बढ़ रहा है। मोदी जी के कुशल नेतृत्व में हम न केवल धीरे-धीरे आत्मनिर्भर होते जा रहे हैं बल्कि 2027 तक भारत विश्व की तीसरी बड़ी अर्थव्यवस्था होगा और 2047 आते-आते विश्व की नंबर वन अर्थव्यवस्था हो जाएगा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भारतीय सेना को लेकर जिस तरह की बातें राहुल गांधी करते हैं वह अपने आप में काफी दुखद है। राजनाथ ने कहा कि हाल ही में भारत चीन युद्ध के बीच जिस तरह के अदम्य साहस का परिचय भारतीय सेना ने किया उससे हर भारती का सीना चौड़ा हो जाएगा और मैं चाहता हूं कि लोग सेना के सम्मान में तालियां बजाकर उनका स्वागत करें। उसके बाद लाखों लोगों ने तालियां बजाकर सेना के सम्मान में.। कृतज्ञता व्यक्त की।

रक्षा क्षेत्र में भारत आत्मनिर्भर होगा

राजनाथ ने बताया कि किस तरह से भारत में पहले 3 किलोमीटर सड़क प्रतिदिन बनती थी जो अब 37 किलोमीटर प्रति दिन हो गई है। इसके साथ ही स्टील बनाने में भी हम विश्व में दूसरे नंबर पर आ गए हैं। कार निर्माण के मामले में भी जापान को पछाड़कर अब हम तीसरे नंबर पर हैं। रक्षा के क्षेत्र में भी हमने फैसला लिया है कि अब हम आत्मनिर्भर होंगे और मिसाइल, हथियार, गोला बारूद जैसे सामान बाहर से मंगाने के बजाय देश में ही बनाए जाएंगे। यह सब मोदी जी के कुशल नेतृत्व के चलते ही संभव हुआ है।