पूर्व अध्यक्ष ने थामा BJP का दामन, कांग्रेस विधायक के शामिल होने की भी अटकलें तेज

कांग्रेस के लिए यह बड़ा झटका माना जा रहा है और BJP के लिए बड़ी उपलब्धि।

bjp

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। आगामी चुनावों (Upcoming Assebly Election) की आहट के पहले ही देश में दलबदल का सिलसिला शुरु हो गया है। आए दिन नेता मौके की नजाकत और राजनैतिक फायदे को देखते हुए पार्टी बदल रहे है। इसी कड़ी में आज रविवार 1 अगस्त 2021 को मणिपुर कांग्रेस (Manipur Congress) के पूर्व अध्यक्ष और विष्‍णुपर सीट से 6 बार के विधायक गोविंददास कोंटौजम (Former Manipur Congress President Govinddas Kaithojam) ने BJP का दामन थाम लिया है। वही कांग्रेस विधायक सुशांत बोरगोहेन के बीजेपी में शामिल होने की अटकलें तेज हो गई है।

यह भी पढ़े..Suspended: MP में 2 पंचायत सचिव और 1 पटवारी निलंबित, शिक्षक पर भी गिरी गाज

दरअसल, आज मित्रता दिवस के मौके पर मणिपुर कांग्रेस के पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष गोविंददास कोंथौजम ने मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह (Manipur Chief Minister N Biren Singh) की अध्यक्षता में दिल्ली में पार्टी मुख्यालय में बीजेपी की सदस्यता ली।हैरानी की बात तो ये है कि पिछले साल दिसंबर में कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी ने उन्हें प्रदेश अध्‍यक्ष नियुक्‍त किया था और मणिपुर में भी अगले साल चुनाव होने हैं, ऐसे में कांग्रेस के लिए यह बड़ा झटका माना जा रहा है और BJP के लिए बड़ी उपलब्धि।इसी के साथ अब असम में कांग्रेस (Assam Congress) से हाल ही में इस्तीफा देने वाले कांग्रेस विधायक सुशांत बोरगोहेन (Sushanta Borgohain) के भी बीजेपी में शामिल होने की चर्चाओं ने जोर पकड़ लिया है।

यह भी पढ़े.. MP Weather: मप्र में जारी रहेगा मूसलाधार का दौर, 27 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट

असम के जोरहाट जिले के थोरा विधानसभा सीट (Thora assembly seat) से कांग्रेस विधायक सुशांत बोरगोहेन ने ने शुक्रवार को पार्टी के सभी पदों और प्राथमिक सदस्यता से अपना इस्तीफा प्रदेश पार्टी अध्यक्ष भूपेन बोरा को सौंपा है। विधायक सुशांत ने अपने इस्तीफे की वजह असम प्रदेश कांग्रेस कमेटी की अंदरुनी राजनीति को बताया था।अगल सुशांत बीजेपी में शामिल होते है तो यह कांग्रेस के लिए दूसरा बड़ा झटका माना जाएगा।हाल ही में असम से मरियानी विधायक रूपज्योति कुर्मी BJP में शामिल हुए है। ये घटनाक्रम राज्य में दूसरी बीजेपी सरकार के गठन के तीन महीने के अंदर हुआ है। आगामी चुनाव से पहले कांग्रेस में बड़े स्तर पर बिखराव देखने को मिल रहा है।