कर्मचारियों-अधिकारियों के लिए गुड न्यूज, नवंबर में मिलेगी बकाए एरियर की राशि, 9 लाख तक होगा लाभ

इसके तहत अधिकारियों को 2.50 लाख से 9.50 लाख और कर्मचारियों को 75 हजार से 2.50 लाख रुपए तक एरियर्स मिलेगा।

1 दिसंबर

भिलाई, डेस्क रिपोर्ट। छत्तीसगढ़ के भिलाई इस्पात संयंत्र (BSP Employees) सहित स्टील अथारिटी आफ इंडिया (SAIL) के अधिकारियों-कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी है।  केंद्रीय इस्पात मंत्रालय ने 5 साल से अटके वेतन समझौते को मंजूरी दे दी।इसके तहत अब 1 अप्रैल 2020 से अक्टूबर 2021 तक के एरियर की राशि कर्मचारियों-अधिकारियों के खातों में ट्रांसफर (Money Transfer) की जाएगी।मोटे अनुमान के तौर पर, अफसरों को 2.50 से 9.50 लाख और कर्मचारियों को 75 हजार से 2.50 लाख रुपए तक एरियर का लाभ मिलेगा। इस फैसले से करीब 54 हजार कर्मचारी लाभंवित होंगे।

यह भी पढ़े.. मप्र पंचायत चुनाव : अधिकारियों-कर्मचारियों के लेकर ये निर्देश जारी, 22 नवंबर को बैठक

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबित, केंद्रीय इस्पात मंत्रालय (Union Ministry of Steel) ने सेल 54,000 अधिकारियों और कर्मचारियों के वेतन समझौते पर मुहर लगा दी है और इस संबंध में आदेश भी जारी कर दिया गया।इसमें बीएसपी के करीब 22 हजार अधिकारी और कर्मचारी शामिल हैं, जिन्हें एक अप्रैल 2020 से अक्टूबर 2021 तक का एरियर्स भुगतान किया जाएगा। इसमें कंपनी करीब 950 करोड़ रुपए खर्च करेगी। इसमें से BSP के कर्मचारियों और अधिकारियों के खाते में करीब 300 करोड़ रुपए आएंगे।संभावना है कि एरियर्स भुगतान की राशि नवंबर में ही ट्रांसफर की जाएगी।इसके तहत अधिकारियों को 2.50 लाख से 9.50 लाख और कर्मचारियों को 75 हजार से 2.50 लाख रुपए तक एरियर्स मिलेगा।

यह भी पढ़े.. मध्य प्रदेश को केन्द्र की बड़ी सौगात, सेकंड ट्रेंच में 1279 करोड़ 19 लाख आवंटित

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो  वेतन समझौते के अनुसार, सेल में एक जनवरी 2017 से कार्यरत सभी कार्मिकों पर लागू होगा। यह वेतन समझौता 10 वर्ष के लिए लागू रहेगा।फिटमेंट बेनिफिट 31 दिसंबर 2016 के मूल वेतन और 40.1 फीसद महंगाई भत्ता का 13 फीसद को जोड़कर नया मूल वेतन  मिलेगा। वेरिएबल पर्क्स नए मूल वेतन का 26.5 फीसद, वेरिएबल पर्क्स में छह फीसद स्पेशल पर्क्स एवं अन्य विशेष भत्ता समाहित होगा। सभी सब्सिडी की सुविधा समाप्त होगी।6 एरियर (arrears payment) एक अप्रैल 2020 से अब तक का एक किस्त में मिलेगा।