Good News: नौकरी छूट गई फिर भी मिलेगा PF-Pension का लाभ, जानें EPFO की नई अपडेट

500 रुपये या अपनी मासिक कमाई का 12 फीसदी हिस्सा देकर वे ईपीएफओ से जुड़ सकते हैं।

7th pay commission Fitment Factor

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। देश के कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) के पीएफ खाता धारकों के लिए अच्छी खबर है।EPFO जल्द ही एक बड़ा बदलाव करने जा रहा है, इसके तहत नौकरी छूटने के बाद भी पीएफ (PF), पेंशन (Pension) और EDLI का लाभ मिल सकता है।फिलहाल इस पर विचार चल रहा है और प्रस्ताव तैयार करने की तैयारी है। माना जा रहा है नए साल 2022 में इसे लागू किया जा सकता है। अगर ऐसा हुआ तो लाखों कर्मचारियों को लाभ मिलेगा।

यह भी पढ़े.. MP पंचायत चुनाव: उम्मीदवारों को देनी होगी इतनी जमानत राशि, सभा के लिए अनुमति जरूरी, पढ़े नियम

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो नए बदलाव के बाद पहले EPFO के मेंबर रह चुके हैं, वे 500 रुपये जमा कर फिर से खाता चालू करा सकते हैं। 500 रुपये या अपनी मासिक कमाई का 12 फीसदी हिस्सा देकर वे ईपीएफओ से जुड़ सकते हैं। इस नियम से उन्हें फायदा होगा जिनकी नौकरी छूटने के बाद PF खाता बंद हो गया हो या जो फॉर्मल सेक्टर से इनफॉर्मल सेक्टर की नौकरी में चले गए हों।EPFO ने वित्त वर्ष 2011 के लिए 8.5 प्रतिशत ब्याज दिया है और संगठन से 6.9 लाख सदस्य और 7.1 लाख पेंशनभोगी जुड़े हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, EPFO के इस फैसले से सेविंग अकाउंट (Saving Account) या कई अन्य सेविंग स्कीम (Saving Scheme) से अधिक ब्याज पा सकेंगे और पेंशन (EPS), पीएफ और Employees Deposit Linked Insurance के तहत 7 लाख तक के बीमा कवर का भी लाभ मिलेगा। वित्त वर्ष 2020-21 के लिए EFPO की ब्याज दर 8.5 फीसदी है। अभी सेविंग अकाउंट पर बैंक 3.5 फीसदी से 6.25 फीसदी तक का ब्याज मिलता हैं। FD में बैंक 2.5 फीसदी से 5.75 फीसदी तक की दर से ब्याज देते है।

यह भी पढ़े.. MP में एक्टिव केस 120 पार, 10 दिन में 158 कोरोना पॉजिटिव, इन जिलों में स्थिति गंभीर

EPFO के एक अनुमान के मुताबिक, 2018-2020 के बीच करीब 48 लाख लोग ईपीएफओ सब्सक्रिप्शन से बाहर हुए है, आने वाले समय में यह आंकड़ा बढ़ भी सकता है, ऐसे में ईपीएफओ अपनी खाताधारकों को जोड़े रखने के लिए यह प्रस्ताव तैयार कर रहा है। अगर इसे मंजूरी मिलती है तो लाखों लोगों को राहत मिलेगी।ग्राहक न केवल किसी बचत खाते या कई अन्य बचत योजनाओं से अधिक ब्याज प्राप्त कर सकेंगे, बल्कि उन्हें पेंशन (EPS), PF और कर्मचारी जमा लिंक्ड बीमा के तहत सात लाख तक का बीमा कवर भी मिलेगा।