IRCTC ने बनाया अंडमान का टूर पैकेज, मंत्रमुग्ध कर देने वाली प्राकृतिक सुंदरता देखने का सुनहरा मौका, देखें डिटेल

Atul Saxena
Published on -

IRCTC Andaman Tour : अंडमान और निकोबार द्वीप समूह प्राकृतिक सुंदरता से परिपूर्ण हैं, यहाँ आने वाले पर्यटक का मन यहाँ से लौटने का नहीं करता, यदि आपने भी कभी इन द्वीपों की खूबसूरती की कल्पना की है तो उसे साकार करने का समय आ गया है, IRCTC ने एक शानदार टूर बनाया है इसकी डिटेल हम आपको बता रहे हैं।

1 अक्टूबर को मुंबई से उड़ान भरेगा हवाई जहाज 

इंडियन रेलवे केटरिंग एंड टूरिज्म कारपोरेशन ने Wondrous Andaman नाम से एक टूर पैकेज बनाया है ये हवाई टूर 5 रात 6 दिन का है, इसके लिए हवाई जहाज मुंबई एयरपोर्ट से 1 अक्टूबर 2023 को उड़ान भरेगा, यात्रियों को कम्फर्ट क्लास में यात्रा कराई जाएगी।

प्रति व्यक्ति इतना चुकाना होगा किराया 

इस टूर में यात्रियों को ब्रेकफास्ट और डिनर की फ़िक्र करने की जरूरत नहीं है इसे IRCTC मैनेज करेगा, इसके लिए 57,700/- रुपये प्रति व्यक्ति का किराया निर्धारित किया गया है लेकिन ये तभी मान्य होगा जब तीन वयस्क एक साथ यात्रा का टिकट लें , यदि दो वयस्क इस टूर का टिकट लेते हैं तो उन्हें 59,400/- रुपये प्रति व्यक्ति के हिसाब से किराया देना होगा और यदि एक  व्यक्ति  अकेला सफ़र पर जाता है तो उसे 77,000/- रुपये का टिकट लेना होगा। बच्चों का टिकट अलग से लेना होगा।

ऐसा होगा टूर शेड्यूल   

IRCTC द्वारा जारी किये गए शेड्यूल के अनुसार इस टूर में यात्री 3 रात पोर्ट ब्लेयर में बिताएगा, 1 रात हेवेलोक आइसलैंड में और एक रात नील आइसलैंड में बिताएगा, यदि आप भी इस खूबसूरत और प्राकृतिक द्वीप को नजदीक से देखना चाहते हैं तो जल्दी से अपनी टिकट बुक कराइए, सीटों की संख्या लिमिटेड है।

सदियों तक रहस्य में डूबा रहा है अंडमान 

अंडमान द्वीप समूह भारत के सात केंद्र शासित प्रदेशों में से एक है, ये बंगाल की खाड़ी और अंडमान सागर के जंक्शन पर द्वीपों का एक समूह है। गौरतलब है कि अंडमान और निकोबार द्वीप समूह अपनी दुर्गमता के कारण सदियों तक रहस्य में  डूबे रहे। यहाँ की प्राकृतिक सुंदरता,  सुंदर और सुरम्य वातावरण पर्यटकों को आकर्षित करता है।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News