चिराग पासवान

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। मोदी कैबिनेट विस्तार (Modi Cabinet Expansion 2021) से पहले देशभर में सियासी हलचल तेज हो गई है। एक तरफ केन्द्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत (Thaawarchand Gehlot) को कर्नाटक का राज्यपाल (Karnataka Governor) बना दिया गया है। वही दूसरी तरफ लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के नेता चिराग पासवान पीएम नरेंद्र मोदी को चुनौती दी है कि अगर LJP कोटे से निष्कासित सांसद पशुपति पारस को केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किया गया, तो मैं कोर्ट जाऊंगा।

यह भी पढ़े.. CM Helpline: अपर कलेक्टर का एक्शन- लापरवाही पर 2 पटवारी निलंबित, 4 को नोटिस

आज  चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने पटना (Patna) में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि पशुपति पारस(Pashupati Paras)  का एलजेपी कोटे से केंद्रीय मंत्री बनाना संभव नहीं है क्योंकि पार्टी के कार्यकारी बोर्ड ने उन्हें निष्कासित कर दिया है। मैंने पीएम को पत्र के माध्यम से सूचित किया है, अगर उन्हें एलजेपी सांसद (LJP MP) के तौर पर मंत्री बनाया गया तो मैं कोर्ट जाऊंगा। निर्दलीय सांसद या JDU से वो मंत्री बने तो कोई दिक्कत नहीं है।

यह भी पढ़े.. 7th Pay Commission: बुधवार को मोदी कैबिनेट बैठक, कर्मचारियों के DA/DR पर हो सकता है फैसला

चिराग पासवान ने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष मैं हूं, पार्टी भी मेरी है। समर्थन भी मेरे पास है। मेरी अनुमति के बिना, पार्टी के कोटे से किसी भी सांसद को मंत्री बनाना गलत है।बिहार चुनाव (Bihar Election) के बाद मैंने कहा था कि डेढ़ दो साल से ज्यादा ये सरकार नहीं चलेगी। JDU के नेताओं को दुआ करनी चाहिए कि मंत्रीमंडल का विस्तार न हो। अगर केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार हुआ तो सबसे पहले टूट होगी तो जेडीयू में होगी।