किसी भी गैस एजेंसी से भरवा सकेंगे रसोई गैस सिलेंडर, बड़े बदलाव की तैयारी में सरकार

इसके लिए केन्द्र सरकार देश की तीनों बड़ी तेल कंपनियां इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम (BPCL) और हिंदुस्तान पेट्रोलियम (HPCL) से बातचीत कर रही हैं।

रसोई गैस

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। महंगाई की मार झेल रहे आम आदमी के लिए राहत भरी खबर है।सुत्रों के मुताबिक, देश में जल्द LPG Booking को लेकर बड़ा फैसला होने वाला है, जिसके बाद उपभोक्ता किसी भी गैस एजेंसी से रसोई गैस सिलेंडर (LPG Gas Cylinder)  भरवा सकेंगे। अगर सबकुछ ठीक रहा तो जल्द ही केन्द्र सरकार (Central Government) और तेल कंपनियां मिलकर एक इंटीग्रेटेड प्लेटफॉर्म तैयार करेंगी, ताकी रसोई गैस उपभोक्ताओं को कालाबाजारी से छुटकारा मिल सके।

यह भी पढ़े.. मप्र में एक्टिव केस 92 हजार के पार, सीएम शिवराज सिंह बोले-युद्ध स्तर पर करें काम

दरअसल, बीते साल 1 नवंबर 2020 को LPG सिलेंडर की बुकिंग (LPG Booking)  को OTP बेस्ड किया गया था, जिससे रसोई गैस बुकिंग सिस्टम ज्यादा सुरक्षित और बेहतर हो सके। सुत्रों की मानें तो अब 2021 में एक बार फिर LPG बुकिंग और डिलीवरी सिस्टम को ज्यादा आसान बनाने की तैयारी है।इसके लिए केन्द्र सरकार देश की तीनों बड़ी तेल कंपनियां इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम (BPCL) और हिंदुस्तान पेट्रोलियम (HPCL) से बातचीत कर रही हैं।

यह भी पढ़े.. नेताओं पर कोरोना का कहर जारी, दो और बीजेपी विधायकों की रिपोर्ट पॉजिटिव

अगर सबकुछ सही रहा तो माना जा रहा है कि जल्द ही ये तीनों कंपनियां मिल कर एक खास इंटीग्रेटेड प्लेटफॉर्म तैयार करेंगी।इसके तहत आने वाले दिनों में ग्राहक किसी भी एजेंसी से LPG सिलेंडर ले सकेंगे या रीफिल करवा सकेंगे। ऐसा करने के लिए सरकार और तेल कंपनियां एक इंटीग्रेटेड प्लेटफॉर्म तैयार करने में जुटी हुई हैं।

ये हो सकते है बदलाव

  • ग्राहक को गैस भरवाने के लिए किसी एक कंपनी पर निर्भर नहीं होना होगा।
  • अगर किसी उपभोक्ता के पास IOC का सिलेंडर है तो वो BPCL से भी रीफिल करवा सकता है।
  • इसके लिए इंडियन ऑयल (IOC), भारत पेट्रोलियम (BPCL) और हिंदुस्तान पेट्रोलियम (HPCL) तीनों कंपनियां मिलकर एक खास प्लेटफॉर्म बना रही हैं।
  • इसके लिए LPG Booking की मौजूदी व्यवस्था लागू रहेंगी। यानी OTP वाला सिस्टम बना रहेगा।
  • अलग-अलग कंपनियों के रसोई गैस का अंतर खत्म हो जाएगा। यानी भारत, एचपी या इंडेन के सिलेंडर का फर्क नहीं रह जाएगा।
  • इससे तेल कंपनियों के साथ ही रसोई गैस एजेंसियों के बीच भी बेहतर सर्विस की प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी।
  • समय और पैसों की बचत होगी।