Modi 3.0 Oath Ceremony : मैं नरेंद्र दामोदरदास मोदी… प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ली लगातार तीसरी बार पद की शपथ, राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने दिलाई शपथ

शाम 7:15 बजे पुनर्वसु नक्षत्र में नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे, और उनके साथ दूसरे कार्यकाल के कई सांसद उनके साथ शपथ ग्रहण करेंगे।

modi

Narendra Modi Oath Ceremony : मैं नरेंद्र दामोदरदास मोदी ने रविवार शाम को लगातार तीसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने शपथ दिलाई। वे नेहरू के बाद ऐसा करने वाले दूसरे पीएम बन गए हैं। मोदी के बाद राजनाथ सिंह, अमित शाह, नितिन गडकरी, जेपी नड्डा, शिवराज सिंह चौहान और मनोहर लाल खट्टर निर्मला सीतारमण, एस जयशंकर, पूर्व सीएम मनोहर लाल खट्टर, जेडीएस के. कुमार स्वामी, पीयूष गोयल, धर्मेंद्र प्रधान, जीतन राम मांझी, ललन सिंह, सर्बानंद सोनोवाल, राम मोहन नायडू, वीरेंद्र कुमार खटीक, जुएल ओरांव, प्रल्हाद जोशी, गिरिराज सिंह, अश्विनी वैष्णव, ज्योतिरादित्य सिंधिया भूपेन्द्र यादव, गजेंद्र सिंह शेखावत, अन्नपूर्णा देवी, किरण रिजीजू, हरदीप सिंह पूरी, मनसुख मंडाविया, गंगापुरम किशन रेड्डी, चिराग पासवान, सीआर पाटिल, इंद्रजीत सिंह, डॉ. जितेंद्र सिंह, अर्जुन राम मेघवाल, प्रतापराव गणपतराव जाधव, जयंत चौधरी, जितिन प्रसाद, श्रीपद यशो नाईक, पंकज चौधरी, कृष्णपाल गुर्जर, रामदास अठावले, रामनाथ ठाकुर, नित्यानंद राय, अनुप्रिया पटेल, वी सोमन्ना, डॉ. पी चंद्रशेखर, एसपी सिंह बघेल, शोभा करंदलाजे, वीके वर्धन सिंह, बी एल वर्मा, सतीश चंद दुबे, संजय सेठ, रवनीत सिंह बिट्टू, दुर्गादास उइके, रक्षा खडसे, एस मजूमदार, सावित्री ठाकुर, तोखन साहू, डॉ. राजभूषण चौधरी, गोविंद राजू श्रीनिवास वर्मा, हर्ष मल्होत्रा, निमुविन बंभानिया , मुरलीधरन मोहोल, जॉर्ज कुरियन, पबित्रा मार्गरीटा, जॉर्ज कुरियन, पबित्रा मार्गरीटा ने शपथ ली। NDA सरकार में मोदी समेत 72 मंत्री बनेंगे। इनमें 30 कैबिनेट मिनिस्टर और 5 स्वतंत्र प्रभार मंत्री और 36 राज्य मंत्री होंगे।

शाम 7:15 बजे पुनर्वसु नक्षत्र में नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली, और उनके साथ दूसरे कार्यकाल के कई सांसद ने उनके साथ शपथ ली। बात करें उस क्रम की जिसमें शपथ ग्रहण के लिए कुर्सियां लगाई गई हैं, तो इसमें सबसे पहले कुर्सी राजनाथ सिंह की, दूसरी अमित शाह की, तीसरी नितिन गडकरी की, चौथी जेपी नड्डा की और पांचवी मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की है। राष्ट्रपति भवन में इस शब्द समझ के लिए सुरक्षा के भारी इंतजाम भी किए गए हैं। इसमें भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष से लेकर राज्यों के मुख्यमंत्री तक शामिल हुए हैं।

आपको बता दें इस शपथ समारोह में भारत के पड़ोसी राज्यों के सभी राज्य अध्यक्ष (पाकिस्तान और चीन को छोड़कर) भी उपस्थित हुए हैं। शपथ ग्रहण समारोह में भाजपा के वरिष्ट नेता मुरली मनोहर जोशी भी पहुंचे हैं उनके अलावा व्यापार जगत से गौतम अडानी सिनेमा जगत से मशहूर अभिनेता शाहरुख खान भी इस समारोह के लिए राष्ट्रपति भवन पहुंचे हैं। अभी-अभी मेगा सुपरस्टार रजनीकांत भी राष्ट्रपति भवन शपथ समारोह में शामिल होने के लिए पहुंचे हैं। भारत के पड़ोसी राज्यों के राज्य अध्यक्षों का भी पहुंचना लगातार जारी है। अभी कुछ देर पहले ही नेपाल और भूटान के राष्ट्र अध्यक्ष राष्ट्रपति भवन पहुंचे हैं।

मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ लोकसभा से सांसद वीरेंद्र कुमार खटीक ने मोदी कैबिनेट 3.0 में मंत्री पद की शपथ ली है। आपको बता दें वीरेंद्र खटीक 2019 में भी प्रधानमंत्री मोदी के मंत्रिमंडल का हिस्सा थे।

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना, सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे शपथ ग्रहण समारोह में पहुंच चुके हैं। इनके साथ ही चिराग पासवान भी शपथ ग्रहण समारोह स्थल पर पहुंच चुके हैं। चिराग मोदी कैबिनेट में मंत्री के रूप में शपथ ले सकते हैं।

फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार भी शपथ ग्रहण समारोह के लिए राष्ट्रपति भवन पहुंच चुके हैं। भोजपुरी अभिनेता और भाजपा सरकार के नेता निरहुआ और मनोज तिवारी भी शपथ समारोह स्थल पर पहुंच चुके हैं।

मालदीव के पीएम मोइज्जू, श्रीलंका के राष्ट्रपति विक्रमासिंघे, नेपाल के प्रधानमंत्री, भूटान के राष्ट्रपति, मॉरीशस के राष्ट्रपति, बांग्लादेश की प्रधानमंत्री इस शपथ समारोह में मौजूद हैं। राष्ट्रपति भवन पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वहां बैठे लोगों का हाथ जोड़कर किया अभिवादन।

अपडेट जारी है…


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है।वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”