PM Kisan : किसानों के लिए महत्वपूर्ण खबर, नहीं मिले 15वीं किस्त के 2000, जानें अब क्या है विकल्प? राशि रूकने के ये हो सकते है 3 कारण

Pooja Khodani
Published on -
pm kisan 15th kisht

PM Kisan Samman Nidhi Yojana 15 Installment : प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के 8 करोड़ लाभार्थियों के लिए खुशखबरी है, पीएम नरेन्द्र मोदी ने 15वीं किस्त के लिए 18,000 करोड़ रुपये जारी कर दिए गए है। इसके तहत किसानों को  2000-2000 रुपए मिलेंगे। अगर अबतक किसी लाभार्थी किसान के खाते में 15 वीं किस्त के 2000-2000 नहीं आए है तो परेशान होने की जरूरत नहीं है,  इसके कई कारण हो सकते है और अब आपकों 15वीं किस्त की राशि कैसे मिलेगी, पैसे अटकने की क्या वजह हो सकती है, साथ ही आगे क्या विकल्प है, इन तमाम सवालों के जवाब आपको नीचे मिल जाएंगे।

इन कारणों से अटक सकते है पैसे

  • सबसे पहले आप अपने खाते को pmkisan.gov.in की वेबसाइट पर चेक करें, कि आपके खाते में पैसा आया है या नहीं। अगर नाम नहीं है तो आवेदन फॉर्म में बैंक खाता, आधार नंबर की जानकारी चेक करें, सही है या नहीं।
  • इसके अलावा बैंक खाते की डिटेल्स, ईकेवायसी, भूमि सत्यापन आदि में तो कोई गलती नहीं की है, ये भी चेक कर लें।
  • अगर आपने अभी तक पीएम किसान योजना को लेकर ई-केवाईसी, आधार सीडिंग, लैंड सीडिंग नहीं करवाई तो आपकी राशि अटकी रहेगी।
  • जिन किसानों का बैंक अकाउंट आधार कार्ड से लिंक होगा, आधार से लिंक अकाउंट में DBT यानी डायरेक्ट बेनेफिट ट्रांसफर का विकल्प चालू होगा, ई-केवाईसी पूरा होगा, उनको 15वीं किस्त का पैसा मिलेगा।
  • रजिस्‍ट्रेशन कराते वक्‍त एड्रेस गलत लिखाने, बैंक अकाउंट नंबर गलत देना, एनपीसीआई में आधार सीडिंग नहीं होने या पीएम किसान खाते का ईकेवाईसी अब तक नहीं कराने पर पैसा आपके खाते में नहीं आया है।

हेल्पलाइन नंबर्स का करें उपयोग

पीएम किसान सम्मान निधि पाने वाले लाभार्थियों के लिए केन्द्र सरकार ने  eKYC, भू सत्यापन और आधार लिंक अनिवार्य कर दिया है, जिन्होंने ये तीनों काम नहीं किए है, उनकी किस्त अटकना तय है।अगर आपने ये तीनों काम कर लिए है और बावजूद इसके आपके खाते में पैसे नहीं आए है तो आप टोल फ्री नंबर 18001155266 या फिर हेल्पलाइन नंबर 011-24300606 पर कॉल कर सकते हैं। इसके अलावा पीएम किसान लैंडलाइन नंबर्स 011-23381092 या 011-23382401 पर भी संपर्क कर सकते हैं। यहां से आपको उचित मदद मिल सकती है।

Continue Reading

About Author
Pooja Khodani

Pooja Khodani

खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते। "कलम भी हूँ और कलमकार भी हूँ। खबरों के छपने का आधार भी हूँ।। मैं इस व्यवस्था की भागीदार भी हूँ। इसे बदलने की एक तलबगार भी हूँ।। दिवानी ही नहीं हूँ, दिमागदार भी हूँ। झूठे पर प्रहार, सच्चे की यार भी हूं।।" (पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर)