PM Kisan: किसानों को फिर मिलेगी खुशखबरी, जल्द खाते में आएंगे 2000-2000, 14वीं किस्त पर ताजा अपडेट, क्या पति-पत्नी को मिलेगा लाभ?

pm kisan

PM Kisan 14th Installment Update : प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के करोड़ों लाभार्थियों के लिए अपडेट है। 13वीं किस्त के लिए किसानों को अब 14वीं किस्त क इंतजार है, संभावना जताई जा रही है कि मई के अंत या जून के पहले सप्ताह तक अगली किस्त जारी की जा सकती है। नियम के तहत, पहली किस्त 1 अप्रैल से 31 जुलाई के बीच, दूसरी 1 अगस्त से 30 नवंबर और तीसरी 1 दिसंबर से 31 मार्च के बीच आती है, ऐसे में संभावना है कि मई-जून तक 14वीं किस्त किसानों के खाते में भेजी जा सकती है।चुंकी प‍िछले साल मई में सरकार की तरफ से क‍िस्‍त जारी की गई थी, हालांकि डेट को लेकर अधिकारिक पुष्टि होना बाकी है।

eKYC समेत ये 3 अपडेट अनिवार्य

वही 14वीं किस्त पाने के लिए ई-केवाईसी,आधार सीडिंग और लैंड सीडिंग अनिवार्य है । यदि ये तीनों काम पूरे हुए हैं तब ही किसान के खाते में सम्मान निधि का पैसा मिलेगा।eKYC कराने के लिए किसान अपने नजदीकी जन सेवा केंद्र में संपर्क कर सकते हैं। वहीं आधार सीडिंग के अपने बैंक की शाखा या पोस्ट ऑफिस में जाना होगा। इसके अलावा लैंड सीडिंग के लिए अपने जिले के कृषि विभाग के कार्यालय में संबंधित अधिकारी से सलाह ले सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए किसान आधिकारिक पोर्टल pmkisan.gov.in पर जाकर अपडेट चेक करते रहें।

क्या है पीएम किसान योजना

पीएम किसान सम्मान निधि (PM Kisan Yojana) योजना केन्द्र सरकार की एक बड़ी योजना है, इसके तहत केन्द्र सरकार द्वारा किसानों को 6000 रुपये 3 किस्तों में सालाना दिए जाते है। केन्द्र सरकार द्वारा हर 4 महीने में किसानों के खातों में 2000-2000 रुपये ट्रांसफर किए जाते हैं।यह पैसा डीबीटी यानी डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के जरिए सीधे किसानों के खाते में पहुंचता है। यह लाभ उन किसानों को मिलता है, जिनके पास 2 हेक्टेयर तक जमीन है।

क्या पति-पत्नी दोनों को मिलेगा लाभ

अक्सर ये सवाल सामने आते है कि क्या पीएम किसान योजना में क्या पति-पत्नी दोनों को सम्मान निधि का पैसा मिल सकता है? क्या पत्नी और पत्नी दोनों ही इस योजना के लाभार्थी हो सकते हैं? तो इसका जवाब है ना। चुंकी सरकार के नियमों के मुताबिक PM KISAN योजना का लाभ पति-पत्नी दोनों नहीं ले सकते हैं। योजना के नियमों के अनुसार किसी परिवार के एक ही सदस्य को इसका लाभ मिल सकता है। वही अगर परिवार में पति-पत्नी दोनों को इस स्कीम का लाभ मिला है, तो उनसे राशि वसूल की जा सकती है, क्योंकि ऐसे लोग इस किसान सम्मान निधि के लिए पात्र नहीं हैं। केंद्र सरकार ने भी कई बार स्पष्ट कर चुकी है कि पीएम किसान योजना का लाभ एक किसान परिवार में सिर्फ एक शख्स को ही दिया जाता है।

ये भी योजना से बाहर

  1. अगर आप किसी संवैधानिक पद पर काम कर रहे हैं, केंद्र या राज्य सरकार के मौजूदा या अवकाश प्राप्त कर्मचारी हैं।
  2. अगर आपको सरकार से पेंशन मिलती है तो भी आप इस योजना के योग्य नहीं माने जाएंगे और आप लाभ नहीं उठा सकते हैं।
  3. अगर आपने अब तक भू-सत्यापन नहीं करवाया है, तो ऐसे में भी आपके किस्त के पैसे अटक सकते हैं ।
  4. अगर ई-केवाईसी भी नहीं करवाई है, तो भी 13वीं किस्त आपको नहीं भेजी जाएगी।

ऐसे चेक करें अपडेट

  1. सबसे पहले pmkisan.gov.in वेबसाइट पर जाएं।अब ‘Farmers Corner’ के ऑप्शन पर क्लिक करें।
    इसके बाद लाभार्थी सूची (Beneficiary Status) पर क्लिक करें।
  2. अब अपने राज्य, जिला, उप-जिला, ब्लॉक और गांव का नाम दर्ज करें।फिर ‘Get Report’ ऑप्शन पर क्लिक करने पर पूरी लिस्ट खुलेगी।
  3. किसान इस लिस्ट में आप अपनी किस्त का विवरण देख सकते हैं।यहां आपको स्टेटस के सामने ई-केवाईसी, पात्रता और लैंड सिडिंग के आगे लिखे हुए मैसेज को देखना है।
  4. ई-केवाईसी, पात्रता और लैंड सिडिंग यानी इन तीनों के आगे अगर ‘यस’ लिखा है, तो आपको किस्त का लाभ मिल सकता है।
  5. अगर इन तीनों के आगे या फिर किसी एक के भी आगे ‘नो’ लिखा है, तो आप किस्त के लाभ से वंचित रह सकते हैं।

ऐसे करें e-KYC

  1. हर लाभार्थी किसानों को ई-केवाईसी करवाना अनिवार्य कर दिया है, आप इसे ऑनलाइन pmkisan.gov.in पर विजिट करके या अपने नजदीकी सीएससी सेंटर (CSC Centre) जाकर भी करवा सकते हैं।
  2. पीएम किसान योजना की आधिकारिक वेबसाइट pmkisan.gov.in पर जाएं।
  3. वेबसाइट के दाईं ओर ई-केवाईसी के विकल्प पर क्लिक करें।अपना आधार नंबर दर्ज करें।अपने पंजीकृत मोबाइल नंबर पर प्राप्त ओटीपी दर्ज करें।
  4. इसके बाद ‘सबमिट’ पर क्लिक करें। बस, ऐसे ही ई-केवाईसी किया जाता है।अगर सबकुछ ठीक रहा तो eKYC पूरी हो जाएगी वरना Invalid लिख कर आएगा।

About Author
Pooja Khodani

Pooja Khodani

खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते। "कलम भी हूँ और कलमकार भी हूँ। खबरों के छपने का आधार भी हूँ।। मैं इस व्यवस्था की भागीदार भी हूँ। इसे बदलने की एक तलबगार भी हूँ।। दिवानी ही नहीं हूँ, दिमागदार भी हूँ। झूठे पर प्रहार, सच्चे की यार भी हूं।।" (पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर)

Other Latest News