School News: भीषण गर्मी के चलते सरकार ने उठाया बड़ा कदम, 10 दिन तक बंद रहेंगे स्कूल, आदेश जारी, छात्रों को मिली राहत

राज्य में 30 मई से 8 जून तक कॉलेज बंद रहेंगे। मुख्यमंत्री के आदेश के बाद मुख्य सचिव ने सभी जिला पदाधिकारियों को इस संबंध में नोटिस भी जारी कर दिया है।

school news

School News: भीषण गर्मी और हिटवेब के कारण बिहार राज्य सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। छात्रों को राहत देते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य के सभी प्राइवेट और शासकीय स्कूलों को बंद करने का आदेश मुख्य सचिव को जारी कर दिया है। यह कदम सरकार ने छात्रों को भीषण गर्मी के प्रकोप से बचाने के लिए उठाया है।

जिला पदाधिकारियों तक पहुंचा निर्देश

सीएम नीतीश कुमार के आदेश के बाद मुख्य सचिव बर्जेश मेहरोत्रा ने सभी जिला पदाधिकारियों को पत्र लिखा। साथ ही जरूरत के अनुसार वर्तमान स्थिति को देखते हुए स्कूलों को बंद करने के संबंध में कारवाई सुनिश्चित करने का निर्देश भी दिया है। इसके अलावा जिला पदाधिकारियों को भीषण गर्मी एवं लू से बचाव हेतु आपदा प्रबंधन विभाग, बिहार  पटना के द्वारा 4 अप्रैल को जारी किए पत्र के जरिए निर्गत गाइडलाइंस और इस संबंध में विभिन्न विभागों द्वारा निर्गत मानक संचालन प्रक्रिया के अनुरूप कार्रवाई करने का निर्देश भी दिया है।

कब तक बंद रहेंगे स्कूल?

आदेश अनुसार 30 मई से 8 जून तक राज्य के सभी प्राइवेट और शासकीय स्कूल बंद रहेंगे। कोचिंग संस्थान और अंगनबाड़ी को भी बंद करने का आदेश दिया गया है। इस दौराब शिक्षण कार्य बंद रहेगा।

बिहार में मौसम का हाल

29 मई को आयोजित आपदा प्रबंधन समूह (सीएमजी) की बैठक में भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के प्रतिनिधि द्वारा 8 जून तक भीषण गर्मी और हिटवेब का अनुमान लगाया है।कुछ दिनों से बिहार के ज्यादातर जिलों में तापमान और लू का प्रकोप देखा गया है। औरंगाबाद और कैमूर में तापमान 46 डिग्री से भी अधिक दर्ज किया गया है। ऐसी स्थिति कमोबेश अन्य सभी जिलों की भी है। बेगूसराय और शेखपुरा जिले में छात्रों की तबीयत खराब होने की खबर सामने आई है। जिसके बाद अभिभावक शिक्षा विभाग के खिलाफ आंदोलन का मन भी बना रहे थे। लेकिन इसी बीच नीतीश कुमार ने स्कूलों को बंद करने का आदेश जारी कर दिया।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है।अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News