School News : छात्रों के लिए राहत भरी खबर, ग्रीष्मकालीन अवकाश घोषित, इतने दिन बंद रहेंगे स्कूल, आदेश जारी

Pooja Khodani
Published on -
school holiday

School Summer Vacation 2023 : स्कूली छात्रों के लिए राहत भरी खबर है। पंजाब और हरियाणा सरकार ने सरकारी स्कूलों में गर्मियों की छुट्टियों का ऐलान कर दिया गया है।हरियाणा  और पंजाब में इस बार 32 दिन गर्मी की छुटि्टयां होंगी, ऐसे में 1 जून से 2 जुलाई तक स्कूल बंद रहेंगे। पंजाब सरकार ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए है,  हालांकि, अभी तक हरियाणा स्कूल शिक्षा महानिदेशालय ने तारीखों की घोषणा नहीं की है। संभावना है कि एक दो दिन में इस संबंध में आदेश जारी किया जा सकता है।

हरियाणा में इतने दिन बंद रहेंगे स्कूल

दरअसल,  हरियाणा स्कूल शिक्षा विभाग ने गर्मी की छुटि्टयों की तैयारी शुरू कर दी है। इस बार 32 दिनों तक स्कूल बंद रहेंगे।यह 1 जून से शुरू होंगी और 2 जुलाई तक चलेंगी। इसके बाद 3 जुलाई से स्कूल खोले जाएंगे। संभावना है कि इस संबंध में गुरुवार को शिक्षा विभाग आदेश जारी कर सकता है।वही पंजाब के सभी सरकारी , प्राईवेट एडिड और मान्यता प्राप्त स्कूलों में भी 1 जून 2023 से 2 जुलाई 2023 तक गर्मियों की छुट्टियां का फैसला किया गया है।इस संंबंध में स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा एक पत्र भी जारी कर दिया है।

पंजाब समेत इन राज्यों में भी जून तक ग्रीष्मकालीन अवकाश

पंजाब के स्कूल शिक्षा मंत्री हरजोत सिंह बैंस द्वारा मंजूरी प्रदान किए जाने के बाद आदेश जारी किए गए हैं।वही नियम तोड़ने वाले स्कूलों पर कार्रवाई की जाएगी। उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में 15 जून तक स्कूलों में ग्रीष्मकालीन अवकाश रहेगा । एमपी में शिक्षकों के लिए अवकाश 9 जून तक घोषित किया गया है। वहीं छत्तीसगढ़ में 15 जून 2023 तक कुल 46 दिनों के लिए, उड़ीसा में 18 जून, झारखंड में 10 जून तक ग्रीष्मकालीन अवकाश की तारीखों का ऐलान किया गया है। इसके अलावा उत्तराखंड के स्कूलों में समर वेकेशन 30 जून तक रहेंगे। वही साल 2023 में रविवार सहित लगभग 75 सार्वजनिक अवकाश घोषित किए गए हैं। 48 दिन की ग्रीष्मकालीन और शीतकालीन छुट्टियां है।

 

School News : छात्रों के लिए राहत भरी खबर, ग्रीष्मकालीन अवकाश घोषित, इतने दिन बंद रहेंगे स्कूल, आदेश जारी


About Author
Pooja Khodani

Pooja Khodani

खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते। "कलम भी हूँ और कलमकार भी हूँ। खबरों के छपने का आधार भी हूँ।। मैं इस व्यवस्था की भागीदार भी हूँ। इसे बदलने की एक तलबगार भी हूँ।। दिवानी ही नहीं हूँ, दिमागदार भी हूँ। झूठे पर प्रहार, सच्चे की यार भी हूं।।" (पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर)

Other Latest News