Vastu Tips: घर में आर्थिक परेशानियों को दूर करने के लिए इस दिशा में लगाएं शीशा, वास्तु शास्त्र के इन उपायों को आजमा लेंगे तो मिलेगी तरक्की

Vastu Tips: वास्तु शास्त्र में दिशाओं का बहुत महत्व होता है। घर मे रखी हुई चीज अगर सही दिशा में है तो इससे आपको न सिर्फ धन लाभ होता है बल्कि घर में सकरात्मक ऊर्जा का संचार भी होता है। आइए घर के लिए कुछ ऐसे ही वास्तु के उपाय जानते है।

Vastu Tips: वास्तु शास्त्र के अनुसार आपके घर रखी गई चीजें अगर सही दिशा में नहीं है तो इसका घर पर नकरात्मक प्रभाव पड़ता है। वहीं घर में लगा आईना सकारात्मक के साथ-साथ नकारात्मक ऊर्जा को भी प्रभावित करता है। वास्तु शास्त्र में बताया गया है कि आईना लगाने की दिशा ऊर्जा को स्थिर और खराब करने की क्षमता रखती है। इसके साथ ही वास्तु के कुछ और भी उपाय है जिन्हें अपनाकर आप आर्थिक परेशानियों से दूर हो सकते है।

​सोने के गहने इस दिशा में रखें

वास्तु शास्त्र में बताया गया है कि घर में सोने के गहनों को दक्षिण-पश्चिम दिशा में रखना शुभ होता है। इससे आपके जीवन में गहनों की वृद्धि होती है। वहीं, आपको आर्थिक लाभ भी मिलता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार सोने को घर की उत्तर-पश्चिम कोने में रखने से बचना चाहिए।

​तिजोरी और अलमारी का दरवाजा इस दिशा में हो

घर में रखी अलमारी और तिजोरी के लिए वास्तु शास्त्र में दिशा बताया गया है। वास्तु शास्त्र के अनुसार जब भी आप उस अलमारी या तिजोरी को खोलें, तो इसका दरवाजा उत्तर दिशा की ओर खुलना चाहिए। इससे आपके जीवन में लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है।

अलमारी के ऊपर बनाएं​ स्वास्तिक

वास्तु शास्त्र के अनुसार आप जिस अलमारी में पैसे रखते है उसके ऊपर हमेशा हल्दी या रोली से स्वास्तिक बनाकर रखें। इसले आपके घर में माता लक्ष्मी और धन कुबेर की कृपा बनी रहती है। साथ ही आपके घर आर्थिक परेशानियां भी दूर होती है।

इस दिशा में लगाएं शीशा​

शीशे को वास्तु शास्त्र में सकारात्मक ऊर्जा से जोड़कर देखा जाता है, घर में इसे रखने के कुछ नियम भी है। जैसे कभी भी घर में टूटे हुए या दरार पड़े शीशे नहीं होनी चाहिए क्योंकि इसे शुभ नहीं माना जाता है। वहीं इसके लिए वास्तु शास्त्र में दिशा में निर्धारित है। घर में शीशा को हमेशा उत्तर दिशा में ही लगाना चाहिए।

(Disclaimer- यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं के आधार पर बताई गई है। MP Breaking News इसकी पुष्टि नहीं करता।)


About Author
Saumya Srivastava

Saumya Srivastava