नागपंचमी आज, इस तरह व्रत और पूजा करने से होंगे नाग देवता प्रसन्न

आज देशभर में नागपंचमी का पर्व मनाया जा रहा है। सावन महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी को नाग पंचमी के रूप में मनाया जाता है। इस दिन नाग देवता की पूजा करने का विशेष महत्तव है। जानिए नाग देव को प्रसन्न करने के लिये किस तरह पूजा करनी चाहिए।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। आज यानी 13 अगस्त 2021 को नागपंचमी (Nagpanchami) के पर्व के दिन नाग देवता की पूजा की जाती है। सावन महीने (Sawan) के शुक्ल पक्ष की पंचमी को नाग पंचमी के रूप में मनाया जाता है। हिंदू धर्म में नाग पंचमी का खास महत्व है। मान्यता है कि सर्पों (Snake) को अर्पित की जाने वाली कोई भी पूजा, स्वयं नाग देवताओं के समक्ष पहुंच जाता है। इसलिए लोग इस अवसर पर नाग देवताओं के प्रतिनिधि के रूप में जीवित सर्पों की पूजा करते हैं।

ये भी देखें- MP News: एक बार फिर BJP दिग्गजों की बैठकों का दौर शुरू, Vishnoi के घर सियासी चर्चा के क्या हैं मायने

इस दिन कई लोग नाग देवता को प्रसन्न करने के लिये व्रत रखते हैं और नाग देवता की सच्चे मन से पूजा कर सुख समृद्धि की कामना करते हैं। इस दिन मान्यता है कि सच्चे मन से जो भी भगवान शिव और नाग देवता की पूजा करता है और व्रत रखता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं। इस अवसर पर देशभर के मंदिरों में पूरी तैयारियों के साथ नाग देवता और भगवान शिव का पूजा-अर्चना की जा रही है। नाग पंचमी के अवसर पर शिवालयों में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ रही है जो सावन के शुक्ल पक्ष की पंचमी के दिन नाग देवता की पूजन कर सुख समृद्धि की कामना करेंगे। आपको बता दें इस वर्ष भी नागपंचमी और कालसर्प योग एक साथ बन रहा है।

ये भी देखें- मप्र विधानसभा: फिर शुरु होंगे उत्कृष्ट संसदीय पुरस्कार, जानें किसको क्या मिली जिम्मेदारी

नागपंचमी आज, इस तरह व्रत और पूजा करने से होंगे नाग देवता प्रसन्न

कैसे करें नागपंचमी की पूजा

आज नागपंचमी पर्व के अवसर पर आप नाग देव को प्रसन्न करने और अपनी मनोकामनाओं को पूरा करने के लिये कुछ खास तरीके भगवान शिव और नाग देवता की पूजा कर सकते हैं। आप नाग पंचमी के दिन सुबह स्नान कर के घर के दरवाजे पर या पूजास्थल पर गाय के गोबर या मिट्टी से नाग देवता की मूर्ती या कलाकृति बनाएं और ‘ओम कुं कुलाय हुं फत् स्वाहा’ मंत्र का जाप करें। इसके बाद व्रत का संकल्प लेकर धूप-दीप जलाएं। नाग देव को प्रसन्न करने के लिये दूध, दही, घी, शहद और शक्कर मिलाकर पंचामृत बनाकर नाग प्रतिमा का स्नान कराएं। इसके बाद नाग देव पर चंदन तिलक लगाकर प्रतिमा पर कुमकुम, अबीर, गुलाल, चंदन, फूल, बिल्वपत्र, हल्दी, मेंहदी चढ़ाएं। धतूरे का फल और फूल चढ़ाएं साथ ही पान सुपारी, लोंग इलाइची और नारियल, का भोग लगाकर उनकी अराधना करें। व्रत रखने वाले भक्त पूरे दिन भगवान शिव और नाग देव की अराधना कर सकते हैं। इस तरह नाग देव की पूजा कर आपकी मनोकामनाएं पूरी हो सकती हैं।