Strawberry Moon 2021

धर्म, डेस्क रिपोर्ट। चंद्रग्रहण (Lunar Eclipse)  और सूर्यग्रहण (Solar Eclipse)के बाद अब 24 जून को स्ट्रॉबेरी मून (Strawberry Moon 2021) दिखाई देने वाला है।इसका कारण ग्रीष्म संक्राति के बाद 24 जून को पड़नी वाली पहली पूर्णिमा है।इस दिन चंद्रमा अपनी कक्षा में पृथ्वी से निकटता के कारण अपने सामान्य आकार से काफी बड़ा दिखाई देगा और उसका रंग गुलाबी हो जाएगा, इसलिए इसे स्ट्रॉबेरी मून कहेंगे।

यह भी पढ़े… महिलाओं के रोजगार को लेकर मप्र सरकार का बड़ा फैसला, विभाग ने जारी किए निर्देश

दरअसल, ग्रीष्म संक्राति के बाद 24 जून को पड़ने वाली पहली ‘पूर्णिमा’ (full moon 2021) काफी खास है। क्योंकि इस रात आसमान में चांद सफेद नहीं ‘स्ट्राबेरी’ रंग में नजर आएगा। यही नहीं पृथ्वी के काफी क्लोज होने की वजह से इसके रंग में गुलाबी परिवर्तन होगा, जो कि देखने वाले के मन को भी गुलाबी कर जाएगा इसलिए इसे Strawberry Moon 2021 कहा जा रहा है। नासा अपनी वेबसाइट पर इसका लाइव प्रसारण भी करेगा।

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert: मप्र के इन जिलों में बारिश के आसार, बिजली चमकने की भी संभावना

हिंदू पंचांग के मुताबिक स्ट्राबेरी मून वसंत ऋतु की अंतिम पूर्णिमा और ग्रीष्म ऋतु (summer season) की पहली पूर्णिमा का प्रतीक है।यह नाम प्राचीन अमेरिकी जनजातियों से मिला है। अमेरिका (America) के किसानों (Farmers) के अनुसार जून में स्ट्रॉबेरी उगाने के सीजन होता है इसी वजह से वो पूर्ण चांद के दिखने को ‘स्ट्रॉबेरी मून’ कहते हैं। यूरोप में स्ट्रॉबेरी मून (Strawberry Moon 2021) को रोज मून कहते हैं, जो गुलाब की कटाई का प्रतीक है। उत्तरी गोलार्ध में इसे गर्म चंद्रमा भी कहते हैं क्योंकि यह भूमध्य रेखा के उत्तर में गर्मी के मौसम की शुरुआत करता है।

यह भी पढ़े… Eclipse 2021: जानें फिर कब लगेगा सूर्यग्रहण और चंद्रग्रहण, भारत पर क्या पड़ेगा असर